Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दीवान के अंदर रजाई में लिपटी मिली महिला की 7 महीने पुरानी लाश, ताला लगाकर बेटा गायब, याद दिला दी सीरियल किलर उद्दयन दास की

राजधानी भोपाल के विद्या नगर इलाके से एक दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है जहां एक महिला की ममी में तब्दील हो चुकी 6-7 महीने पुरानी लाश मिली है। जिसके बाद से पूरे इलाके में सनसनी फैल गई है। पुलिस ने लाश की पहचान के लिए पोस्टमार्टम के ​लिए भेज दिया है।

दीवान के अंदर रजाई में लिपटी मिली महिला की 7 महीने पुरानी लाश, ताला लगाकर बेटा गायब, याद दिला दी सीरियल किलर उद्दयन दास की
X
भोपाल। राजधानी भोपाल के विद्या नगर इलाके से एक दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है जहां एक महिला की ममी में तब्दील हो चुकी 6-7 महीने पुरानी लाश मिली है। जिसके बाद से पूरे इलाके में सनसनी फैल गई है। पुलिस ने लाश की पहचान के लिए पोस्टमार्टम के ​लिए भेज दिया है।
विद्या नगर सी-सेक्टर स्थित बीडीए कॉम्प्लेक्स के एक फ्लैट में रविवार को एक महिला की लाश मिलने इलाके में दहशत का माहौल बना हुआ है। लाश न तो सड़ी है और ना ही गली है। बता दें करीब 6-7 महीने पुरानी लाश को एक रजाई में लपेटकर लकड़ी के दीवान में रखा गया था और ऊपर से पुराने कपड़े रखकर दीवान बंद कर दिया था। वहीं पड़ासियों के मुताबिक में मकान में रहने वाले मां-बेटे भी पिछले छह माह से लापता हैं।
Seven months old womans body के लिए इमेज परिणाम
एसडीओपी दिशेष अग्रवाल ने बताया, रविवार दोपहर करीब साढ़े 3 बजे पुलिस को सूचना मिली थी कि विद्या नगर स्थित एलआइजी 5/24 में दीवान के अंदर एक लाश पड़ी है। संभवत: लाश फ्लैट में रहने वाली ग्वालियर की और सड़क परिवहन निगम में क्लर्क रह चुकीं विमला पति बृजमोहन श्रीवास्तव की है। उनके साथ 31 वर्षीय अमित श्रीवास्तव भी साथ रहता था। पड़ोसियों के मुताबिक दोनों मां-बेटे को किसी ने भी 6-7 महीने से नहीं देखा।
लाश का पता उस वक्त चला, जब मकान खरीदने वाले नेहरू नगर निवासी रामवीर सिंह का बेटा अपने रिश्तेदार धर्मेंद्र सिंह और दो मजदूर को लेकर सफाई करने पहुंचा था। जब उन्होंने फ्लैट का ताला खोला तो वहां बदबू आ रही थी। फिर हॉल में रखे दीवान को खोला तो उसमें कुछ कपड़े पड़े थे। कपड़े हटाने पर रजाई में लिपटी हुई एक लाश मिली। जिसके बाद उन्होंने तुरंत पुलिस को सूचना दी।
पैसे लिए लेकिन पजेशन नहीं दे रहा था
वर्तमान मकान मालिक रामवीर सिंह ने बताया कि मैंने 2 जून 2018 को मैंने इस फ्लैट की रजिस्ट्री बीडीए से करवाई थी। रजिस्ट्री के करीब 15 दिन पहले मेरा बेटा विमला के घर जाकर उनकी सहमति ले आया था। फ्लैट का सौदा छह लाख में हुआ था। मैंने ढाई लाख अमित को और बाकी रकम बीडीए को अदा कर दी थी। इसके बाद से ही अमित पजेशन नहीं दे रहा था।
बेटे की तलाश में जुटी पुलिस
दूसरी मंजिल पर बना ये फ्लैट विमला के नाम पर था। पति के निधन के बाद से वह अपने बेटे अमित के साथ रहती थीं। अमित ने जून 2018 में फ्लैट रामवीर को बेच दिया था। रामवीर की विद्या नगर में चाय-नाश्ते की दुकान है।
इस घटना के बाद एक बार फिर साल 2018 के सीरियल किलर उद्दयन दास की याद दिला दी है। इस सीरियल किलर ने भोपाल में ही अपनी प्रेमिका आकांक्षा की हत्या कर घर के अंदर उसे चबूतरे में दफना दिया और मां इंद्राणी दास पिता बीके दास की हत्या कर उन्हें छत्तीसगढ़ रायपुर वाले घर में दफना दिया था।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story