Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

आया सच सामने तो दूसरी पत्नी ने किया साथ रहने से इंकार, जानिए क्या है पूरा ममाला

आदिवासी अंचलों में बेटियों को एक मुश्त राशि लेकर शादी के लिए बेचने का सिलसिला बदस्तूर जारी है। ऐसा आमतौर पर उन परिवारों में देखने मिल रहा है जो गरीब है या फिर जिनके सिर पर माता-पिता का सहारा नहीं है।

आया सच सामने तो दूसरी पत्नी ने किया साथ रहने से इंकार, जानिए क्या है पूरा ममाला
X

बैतूल। आदिवासी अंचलों में बेटियों को एक मुश्त राशि लेकर शादी के लिए बेचने का सिलसिला बदस्तूर जारी है। ऐसा आमतौर पर उन परिवारों में देखने मिल रहा है जो गरीब है या फिर जिनके सिर पर माता-पिता का सहारा नहीं है। ऐसा ही एक मामला बीजादेही थाना क्षेत्र के ग्राम डोडरामऊ में देखने मिला। जहां मां के साथ मिलकर मामा, मौसा और मौसी ने मिलकर 40 हजार रुपए लेकर अपनी बेटी का विवाह ऐसे व्यक्ति कर दिया जो पहले से विवाहित है।

जब पहली पत्नी के माध्यम से यह खुलासा हुआ तो दूसरी पत्नी ने घर जाने से इंकार कर दिया। मामला पुलिस तक पहुंचा। इस सबमें नवविवाहिता का मायका भी छूट गया और ससुराल भी। ससुराल जाने से मना करते हुए उसने दो दिन अपनी ही सौतन के घर बिताए लेकिन यहां से उसे जबरदस्ती ससुराल वापस ले गए। नवविवाहिता फिलहाल कश्मकश में है और पति के साथ रहना नहीं चाहती। इधर पहली पत्नी भी अपने पति के विरोध में चार वर्ष से न्यायालय में प्रकरण लड़ रही है।

यह है पूरा मामला

प्राप्त जानकारी के अनुसार देवगांव निवासी ज्योति बावने का विवाह बक्का चिखली निवासी कमलेश बावने के साथ 8 मई 2015 को हुआ था। पति और उसके परिजनों द्वारा उसे विवाह के कुछ दिनों बाद ही दहेज के लिए प्रताड़ित किया जाता था। यहां तक कि तीन माह का गर्भ तक गिरवा दिया गया। दो वर्ष तक लगातार प्रताड़ना झेलने के बाद ज्योति ने चिचोली पुलिस को शिकायत कर दी।

महिला ने बताया कि उसे इस दौरान जहर पिलाकर जान से मारने की भी कोशिश की गई थी। इस प्रकरण के बाद महिला अपने मायके में रहने लगी। प्रकरण अभी भी विचाराधीन है। 10 जुलाई को ज्योति के पति कमलेश ने बीजादेही थाने के अंतर्गत आने वाले ग्राम डोडरामऊ निवासी हिना के साथ विवाह किया। इसके लिए उसने हिना के परिवार वालों को 40 हजार रुपए भी दिए।

विवाह होने की पुष्टि के बाद जब पहली पत्नी ने फिर से थाने में शिकायत की तो पहली पत्नी के सामने भी पति के पहले से शादीशुदा होने का राज सामने आया। हिना ने मामा, मां, मौसा और मौसी पर पैसे लेकर शादी करने का आरोप लगाया और पति पर भी धोखाधड़ी की शिकायत बीजादेही थाने में दर्ज करा दी।

पुलिस ने कमलेश को गिरफ्तार तो किया लेकिन दो दिन बाद ही उसकी वापसी हो गई। जिसके बाद उसने देवगांव में अपनी पहली पत्नी के साथ रह रही दूसरी पत्नी को घर लाने के लिए दबिश दे दी। हिना के परिजनों, रिश्तेदारों एवं अपने परिवार के साथ देवगांव में पहली पत्नी के घर के सामने डेरा डाल दिया। इस मामले में बैतूल टीआई सुनील लाटा के हस्तक्षेप के बाद बीजादेही पुलिस मौके पर पहुंची और दोनों पक्षों को थाने लाया गया।

20 जुलाई को हुए इस घटनाक्रम में देर रात तक थाने में दोनों पक्षों को समझाईश दी गई और मर्जी न होने के बाद भी हिना को ससुराल भेज दिया गया है। चूंकि हिना ने अपने पति और मायके पक्ष की शिकायत की थी इसलिए उसे बार-बार जान मार देने की धमकी दी जा रही थी।

वर्तमान में वह अपने ससुराल में खुद को असुरक्षित महसूस कर रही है। इधर पहली पत्नी ज्योति को भी लगातार धमकियां दी जा रही है। इसके अलावा कमलेश एवं उसके रिश्तेदारों द्वारा ज्योति के घर बार-बार दबिश दी जा रही है। पुलिस द्वारा सहयोग न किए जाने से दो महिलाएं असुरक्षा में जी रही है।

थानों के चक्कर काटने पर भी नहीं मिली मदद

ज्योति बामने ने बताया कि इस मामले में जब चिचोली टीआई को फोन कर सूचना दी गई तो उनके द्वारा एसपी के पास शिकायत करने के लिए कहां। एसपी कार्यालय में शिकायत करने पर मामला बीजादेही थाने का रास्ता दिखा दिया गया। कमलेश की दूसरी पत्नी का कहना है कि वह पति के साथ नहीं रहना चाहती, बावजूद इसके उसे जबरदस्ती ससुराल भेज दिया गया है।

पुलिस की भूमिका फिर संदेह के घेरे में

इस उलझे हुए प्रकरण में पुलिस की भूमिका एक बार फिर संदेह के घेरे में है। जहां कमलेश की पहली पत्नी का कहना है कि बीजादेही पुलिस ने हिना को पति के घर भेज दिया है वहीं पुलिस का कहना है कि हिना ने मामा के घर जाने की इच्छा जताई थी और वह पति के घर नहीं जाना चाहती थी इसलिए उसे मामा के घर भेज दिया है।

बीजादेही थाने से मिली जानकारी के अनुसार पहली पत्नी यदि चाहे तो कमलेश पर धारा 794 के तहत प्रकरण दर्ज करा सकती है। थाने में 40 हजार रुपए देकर शादी करने की भी बात नहीं बताई गई थी। बहरहाल प्रकरण में पुलिस की भूमिका पर सवाल उठ रहे है।

... तो उसे मायके भेज दिया

समझाईश देने पर जब हिना ने पति के घर न जाने की इच्छा जताई थी तो उसे मायके भेज दिया गया है। पहली पत्नी चाहे तो 794 के तहत प्रकरण दर्ज करा सकती है।

- बसंत आहके, उप निरीक्षक थाना बीजादेही

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story