Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

महाकाल के गर्भगृह में प्रवेश को लेकर यूपी के कावड़ियों ने किया हंगामा, धरने पर बैठे मंदिर में Watch Video

मध्यप्रदेश के उज्जैन में विश्व प्रसिद्ध बाबा महाकाल के दरबार में बुधवार उस समय हंगामा खड़ा हो गया। जब उत्तर प्रदेश से आये कावड़ यात्रियों ने शिवलिंग पर जल चढ़ाने के लिए गर्भगृह में जाने की मांग करते हुए धरना दे दिया।

महाकाल के गर्भगृह में प्रवेश को लेकर यूपी के कावड़ियों ने किया हंगामा, धरने पर बैठे मंदिर में Watch Video
X

मध्यप्रदेश के उज्जैन में विश्व प्रसिद्ध बाबा महाकाल के दरबार में बुधवार उस समय हंगामा खड़ा हो गया। जब उत्तर प्रदेश से आये कावड़ यात्रियों ने शिवलिंग पर जल चढ़ाने के लिए गर्भगृह में जाने की मांग करते हुए धरना दे दिया और हंगामा करने लगे। इस दौरान मंदिर प्रशासक और पुलिस ने काफी देर तक समझाइश देके बाद दर्शन कराकर उन्हें मंदिर परिसर से बाहर किया। यूपी से आए कावड़ियों के हंगामें के कारण आम दर्शानाथियों को भी काफी देर तक समस्या का सामना करना पढ़ा।

बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक महाकाल मंदिर में सावन के माह में लाखों श्रद्धालु भगवान महाकाल के दर्शन के लिए आते हैं। वहीं कावड़िये भी अलग अलग नदियों का जल भर कर जल चढ़ाने के लिए महाकाल मंदिर पंहुचते हैं। आज मंदिर में उत्तरप्रदेश के बरेली से आये सेकड़ों कावड़ियों ने हंगामा खड़ा कर दिया और मंदिर में पहले तो धरने पर बैठ गए। उसके बाद गर्भगृह के सामने जाकर खड़े हो गए।

दरअसल, कावड़ियों की मांग थी की सभी कावड़ियों को गर्भगृह में जाकर जल चढ़ाने का मौका मिले। लेकिन मंदिर समिति का नियम है की तय समय पर ही गर्भगृह में जाया जा सकता है। इधर मंदिर समिति ने जल चढ़ाने के लिए श्रद्धालुओं के लिए एक पाईप लाइन के माध्यम से शिवलिंग पर जल चढ़ाने की व्यवस्था की है। लेकिन कावड़ियों की जिद थी उन्हें गर्भगृह में जाकर ही जल चढ़ाना है।

जब वे नहीं माने तो आला अधिकारी मनाने पंहुचे इसके बावजूद कावड़िये आरती के समय गणेश मंडप में आकर खड़े हो गए और जिद करने लगे की मंदिर के गर्भ गृह में जाकर ही जल चढ़ाना है। इसके बाद पुलिस फ़ोर्स को बुलाया गया और जिद पर अड़े कावड़ियों को एक एक करके धक्के मारकर जबरन बाहर निकाल दिया। इस पर कावड़ियों ने आरोप लगाया की इतनी दूर से पैदल चल कर आये हैं उसके बाद भी हमारी आस्था का ध्यान नहीं रखा गया।

अब प्रशासन के सामने बड़ी चुनौती है की दर्शन और जल चढ़ाने की व्यवस्था को सामान्य बनाने के लिए कुछ अलग से कदम उठाने होंगे। क्योंकि अभी तो एक सोमवार ही निकला है सावन का। जबकि सावन के अन्य सोमवार बाकी हैं ऐसे में आए दिन इस तरह की स्थिति निर्मित हो सकती है।


और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story