Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सावन का पहला सोमवार: ओम्कारेश्वर महादेव के दर्शन करने उमड़ी भीड़, नगर भ्रमण और नौक विहार पर निकलेंगे महादेव

आज सावन का पहला सोमवार है जिसके चलते ज्योतिर्लिंगों सहित शिवालयों में लोगों की भीड़ उमड़ रही है। खंडवा के ओम्कारेश्वर ममलेश्वर महादेव के दर्शन करने और विशेष पूजा करने के लिए सुबह से ही श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी है।

सावन का पहला सोमवार: ओम्कारेश्वर महादेव के दर्शन करने उमड़ी भीड़, नगर भ्रमण और नौक विहार पर निकलेंगे महादेव
X

खंडवा। आज सावन का पहला सोमवार है जिसके चलते ज्योतिर्लिंगों सहित शिवालयों में लोगों की भीड़ उमड़ रही है। खंडवा के ओम्कारेश्वर ममलेश्वर महादेव के दर्शन करने और विशेष पूजा करने के लिए सुबह से ही श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी है। दूर-दूर से आए भक्तों ने पहले पवित्र नदी नर्मदा में डुबकी लगाई उसके बाद पूजन सामग्री और नर्मदा जल लेकर मंदिर में गर्भ गृह में पहुंचकर भगवान का जलाभिषेक किया। मान्यता है कि नर्मदा नदी भगवान भोलेनाथ की नासिका से निकली हैं, इसलिए उन्हें भोले की मानस पुत्री भी कहा जाता है।

सोमवार को सुबह 5 बजे ही ओंकारेश्वर मंदिर के पट दर्शन के लिए खोल दिए गए। इससे पूर्व मंदिर परिसर के साथ ही गर्भगृह को फूलों से सजाया जाएगा। पूजा-अर्चना के बाद भोलेनाथ को 251 किलो पेड़े का भोग लगाया गया।

वहीं हर साल की तरह इस साल भी परंपरानुसार शाम को ओमकारेश्वर और ममलेश्वर की प्रतिमा का सतमंडल राजपरिवार के सदस्यो और भक्तों, ढोल ताशा के साथ फूलों से सजी पालकी में अभिषेक के बाद नौका विहार करते हुए नगर भ्रमण को निकलेंगे। जो नगर भ्रमण के बाद वापस मंदिर लौटेगी।

इस दौरान जगह-जगह श्रद्धालुओं भक्तों द्वारा पुष्प वर्षा ढोल नगाड़ों के साथ भगवान भोलेनाथ की पालकी का स्वागत आरती की जाएगी पूरा नगर बम बम भोले के जय घोषों से गुंजायमान होगा।

श्रद्धालुओं की तादाद को देखते हुए इस बार मंदिर में वीआईपी दर्शन व्यवस्था पर प्रशासन ने प्रतिबंध लगा दिया है। इसके चलते पहले सोमवार को रसूखदार लोगों को भी लाइन में लगकर दर्शन करना पड़ेगा। हालांकि इस नई व्यवस्था से अधिकारी के साथ ही जनप्रतिनिधियों को साधारण द्वार से दर्शन करवाने में प्रशासन को दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।

दोनों सवारियां करेंगी नौका विहार

इसी तरह ममलेश्वर ज्योतिर्लिंग की सवारी शाम 4 बजेे मंदिर से रवाना होकर महानिर्वाणी अखाड़ाघाट पहुंचेगी। इसके सबसे पहले भगवान ओंकारेश्वर ज्योर्तिलिंग कि पंचमुखी रजत मूर्ति का मंदिर के पुजारियों द्वारा नर्मदा के पवित्र जल से स्नान करवाया जाएगा। मंदिर के पुजारी जगदीश उपाध्याय, पंडित महेश शर्मा, श्रीकांत जोशी के साथ ही अन्य पंडितों द्वारा धार्मिक अनुष्ठान संपन्न किए जाएंगे। आरती पश्चात दोनों सवारियों को नौका विहार कराया जाएगा। नगर भ्रमण पश्चात दोनों सवारियां रात्रि 9 बजे मंदिर पहुंचेगी। ओंकारेश्वर मंदिर ट्रस्ट के कार्यपालन अधिकारी पुनासा एसडीएम डॉ. ममता खेड़े, सहायक कार्यपालन अधिकारी अशोक महाजन व सवारी प्रभारी आशीष दीक्षित ने बताया कि सवारी की तैयारियां पूर्ण हो चुकी हैं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story