Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पश्चिम बंगाल के समर्थन में मध्यप्रदेश में भी डॉक्टर्स का समर्थन, डॉक्टर प्रोटक्शन एक्ट लागू करने की मांग Watch Video

पश्चिम बंगाल में 4 दिन से हड़ताल पर बैठे जूनियर डॉक्टर्स के समर्थन में शुक्रवार को मध्यप्रदेश जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन भी सड़कों पर उतरा। एसोसिएशन ने एक दिन की सांकेतिक हड़ताल का ऐलान किया है। जिसके चलते प्रदेश के सरकारी और प्रायवेट अस्पतालों के जूनियर डॉक्टर्स ने भी ओपीडी में जाने से इंकार कर दिया है।

पश्चिम बंगाल के समर्थन में मध्यप्रदेश में भी डॉक्टर्स का समर्थन, डॉक्टर प्रोटक्शन एक्ट लागू करने की मांग Watch Video

भोपाल। पश्चिम बंगाल में 4 दिन से हड़ताल पर बैठे जूनियर डॉक्टर्स के समर्थन में शुक्रवार को मध्यप्रदेश जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन भी सड़कों पर उतरा। एसोसिएशन ने एक दिन की सांकेतिक हड़ताल का ऐलान किया है। जिसके चलते प्रदेश के सरकारी और प्रायवेट अस्पतालों के जूनियर डॉक्टर्स ने भी ओपीडी में जाने से इंकार कर दिया है।

जूनियर डॉक्टर्स वॉर्ड और ऑपरेशन थियेटर छोड़कर बाहर धरना प्रदर्शन कर रहे हैं। डॉक्टरों की हड़ताल से मेडिकल सेवा पर खासा असर पड़ रहा है जिससे मरीज़ इलाज के लिए परेशान हो रहे हैं।


भोपाल के गांधी मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टर्स काम पर नहीं गए। ओपीडी बंद रखी और मरीज़ों को नहीं देख रहे हैं। पश्चिम बंगाल की घटना के विरोध में ये डॉक्टर भी सुरक्षा की मांग कर रहे हैं।आइएमए के आव्हान पर मध्य प्रदेश में भी जूडा हड़ताल में शामिल हुआ है।


ग्वालियर के गजराराजे मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टर्स भी हड़ताल कर रहे हैं। यहां भी करीब 200 जूनियर डॉक्टर हड़ताल में शामिल हुए और तीन घंटे काम बंद रखा। इमरजेंसी सेवाओ में 100 जूनियर डॉक्टर तैनात रहे। ये जूनियर डॉक्टर काली पट्टी बांधकर विरोध जता रहे हैं। हड़ताली डॉक्टर दोषी लोगों के विरुद्ध कार्रवाई करने की मांग के अलावा मध्यप्रदेश में भी डॉक्टर प्रोटक्शन एक्ट लागू करने की मांग कर रहे हैं। डॉक्टर का कहना है कि उन्हें भी इंसान समझा जाए। अस्पताल में कुछ स्वाभाविक मौत होती हैं तो बहुतों की जानें भी बचाई जाती हैं।


जबलपुर के नेताजी सुभाषचंद्र बोस मेडिकल कॉलेज से संबद्ध अस्पताल में भी आज OPD बंद है। यहां सुबह 11:30 से 1 बजे तक OPD बंद रहेगी। जूनियर डॉक्टर्स रैली और विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।


इंदौर के एमजीएम मेडिकल कॉलेज के 250 से अधिक डॉक्टर्स ने 3 घंटे 9 से 12 तक काम बन्द हड़ताल की। अस्पताल की ओ पी डी बंद है। सिर्फ इमर्जेंसी सुविधाएं चालू रखी गयी हैं। जूनियर डॉक्टर्स ऐसा कानून बनाने की मांग कर रहे हैं जिसमें डॉक्टर्स की सुरक्षा हो। यदि समय रहते सुरक्षा का कानून नहीं बना तो डॉक्टर्स जा सकते है अनिश्चित कालीन हड़ताल पर।




Share it
Top