Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

नरक की जिंदगी जीने को मजबूर 250 बच्चे, इस लड़की कहानी सुन कांप उठेगा कलेजा Watch Video

ग्वालियर में एक युवती की एक ऐसी तस्वीर उजागर हुई है जिसको देखकर आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे। यह तस्वीर नहीं एक हकीकत है जिसमें एक युवती के शरीर के अंगों को तेज़ाब या केमिकल से जलाया गया है।

नरक की जिंदगी जीने को मजबूर 250 बच्चे, इस लड़की कहानी सुन कांप उठेगा कलेजा Watch Video
X

ग्वालियर में एक युवती की एक ऐसी तस्वीर उजागर हुई है जिसको देखकर आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे। यह तस्वीर नहीं एक हकीकत है जिसमें एक युवती के शरीर के अंगों को तेज़ाब या केमिकल से जलाया गया है।

इतना ही नहीं इस युवती को आठ-आठ दस-दस दिन तक खाना तक नहीं दिया गया। पता चला है कि आसरा देने वालों द्वारा अपना खुद का और मजलूम युवती को पेट भरने के लिए बाजार में फूल बेचने को भेज दिया जाता है।

मीडिया के कुछ लोगों द्वारा इस युवती को ग्वालियर के गोला का मंदिर क्षेत्र में एक बैंक के पास फूल बेचते हुए देखा गया। कुछ जागरूक नागरिकों ने इसकी जानकारी दी तो प्रशासन तक भी खबर पहुंची लेकिन प्रशासन की टीम अभी तक उस आश्रय गृह या आश्रय स्कूल को तलाश नहीं पा रही है जिसमें रहने की दास्तान यह पीड़ित युवती बता रही है।

हाथ पैरों में एसिड से जलाने के निशान

खुद को 15 साल का बता रही ये युवती किसी ड्रामेटिक सीन का हिस्सा नहीं है, इस युवती के हाथ और पैरों पर जो जख्मों के निशान हैं। वे कृत्रिम रूप से नहीं बनाए गए बल्कि असली जख्मों के घाव हैं और इन घाव के जख्म इस युवती के चेहरे पर खुद ही उभर कर आ जाते हैं जब वह अपनी दर्द भरी दास्तान सुनाती है। वो गोला का मंदिर के पास सुरुचि होटल के आसपास किसी आश्रय गृह या अनाथालय में रहती है और उसे 2010 में इस स्कूल में छोड़ दिया गया था उसके पिता भी फौज में थे। इस आश्रम उसकी तरह करीब 250 बच्चे ओर हैं।


अब उसे अपना पेट भरने के लिए आश्रय गृह के कसाई नुमा प्रबंधन की ज़्यादतियों का शिकार होना पड़ता है। वह हर रोज इसी तरह सुबह 10:00 बजे से आश्रय ग्रह से निकलती है और 1:00 बजे तक यह बिना खुशबू वाले प्लास्टिक के फूलों का गुच्छा बेचकर अपना ही पेट नहीं भरती बल्कि उन भरे पेट वालों का भी पेट भरती है जहां उन लोगों ने आश्रय गृह के नाम पर उसे आसरा दिया हुआ है।

अपने हाथ नहीं पी पा रही थी पानी

इस मजलूम युवती की बात पर यकीन किया जाए तो उस जैसी करीब ढाई सौ और लड़कियां आश्रय गृह में निवास कर रही हैं। जहां यह युवती रहकर अपनी गुजर-बसर कर रही है। इस मामले की खबर मीडिया को देने वाले बसंत तोमर और उसी इलाके में एक्सिस बैंक के कर्मचारी रवि पांडे बताते हैं कि एक बच्ची आई थी उसके हाथ में फ्लावर थे। वह जब आई थी तो वह खुद अपने हाथ से पानी तक नहीं पी पा रही थी। जिस अनाथालय की बात यह युवती कर रही है वह गोल का मंदिर के पास सुरुचि होटल वाली गली में बताया जा रहा है। जिसकी संचालिका कोई अनीता शर्मा है। युवती अपना पेट भरने के लिए फूलों को बेचती है। उसके साथ मारपीट भी की जाती है। जिसके निशान उसके शरीर पर देखे जा सकते हैं।


तीन दिन से भूखी थी युवती

यही गोल का मंदिर क्षेत्र में युवती को देखने और समझने वाले लोगों के दिल में जो वेदना जागी उसको उन्होंने इस तरह बयान किया। कि जब उन्होंने युवती को देखा कि वह दो-तीन दिन से भूखी दिखाई दे रही थी। जागरूक नागरिक के रूप में उनका सवाल था कि आखिर ऐसी संस्थाएं इस तरह अत्याचार कर और फूल बिकवा कर कौन सी सेवा कर रही हैं और आखिर प्रशासन कर क्या रहा है।

इस संबंध में कलेक्टर अनुराग चौधरी का कहना है, मामला गंभीर और संवेदनशील है पुलिस सहित महिला एवं बाल विकास विभाग के जिम्मेदार अफसरों को जिम्मेदारी सौंपी गई है। उस युवती का पता लगाया जाए और जहां वह निवास कर रही है उस आश्रय देने वाले आश्रय दाताओं की भी खैर खबर ली जाए। -कलेक्टर, अनुराग चौधरी

ग्वालियर महानगर में बुजुर्गों और महिलाओं और अशक्त युवतियों और महिलाओं के पुनरुद्धार और पुनर्वास के लिए कई आश्रम और संस्थाएं चल रही हैं। लेकिन इस युवती की वेदना व दर्द को समझे बिना उसका शारीरिक मानसिक रूप से जो शोषण किए जाने की दास्तान उजागर हुई है। उससे ऐसा लगता है कि इस निर्दयी समाज में समाज सेवा का ठीकरा अपने सिर पर उठा कर घूम रहे ऐसे समाजसेवियों को शायद ऊपर वाले की लाठी का एहसास ही नहीं है।

वह पीड़ित मानवता की सेवा क्या करेंगे और उन्हें शायद इस बात का भी एहसास नहीं होगा की वो जो पाप कर रहे हैं। शायद उसका पश्चाताप करने का मौका भी उन्हें ना मिल सके..। एक अहम सवाल यह भी है कि नई सरकार बनाने हडबड़ी में जिम्मेदार ओहदेदारान कहीं इस युवती जिसे वे बिना देखे ही नाबालिग मानने को तैयार नहीं है उसके गुनहगारों की खैर खबर ही लेना भूल जाएं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story