Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

इंदौर : निगम कर्मचारियों के साथ मारपीट के मामले में आकाश विजयवर्गीय गिरफ्तार

भारतीय जनता पार्टी के बड़े नेता कैलाश विजयवर्गीय के विधायक बेटे आकाश विजयवर्गीय को गिरफ्तार कर लिया गया है। निगम कर्मचारियों की पिटाई के मामले में उन्हें गिरफ्तार किया गया है। विधायक आकाश पर धारा 353 , 294 , 506, 147, 148 के तहत शासकीय कार्य में बाधा डालने, मारपीट और बलवा का मुकदमा दर्ज किया गया है।

निगम कर्मचारियों के साथ मारपीट के मामले में, कैलाश विजयवर्गीय के MLA बेटे आकाश पर FIR दर्जFIR Registered against bjp mla akash vijayvargiya

इंदौर। भारतीय जनता पार्टी के बड़े नेता कैलाश विजयवर्गीय के विधायक बेटे आकाश विजयवर्गीय को गिरफ्तार कर लिया गया है। निगम कर्मचारियों की पिटाई के मामले में उन्हें गिरफ्तार किया गया है। विधायक आकाश पर धारा 353 , 294 , 506, 147, 148 के तहत शासकीय कार्य में बाधा डालने, मारपीट और बलवा का मुकदमा दर्ज किया गया है।

वहीं दूसरी और आकाश विजयवर्गीय पर मुकदाम दर्ज होने की सूचना मिलते ही भाजपा कार्यकर्ता थाने के बाहर धरने पर बैठ गए। नगर निगम के विरूद्ध नारेबाजी करने लगे। जानकारी मिलने पर मौके पर पहुंची डीआईजी रुचिवर्धन मिश्रा ने थाने के बाहर जमा नारेबाजी कर रहे भाजपा के लोगों को भगाया।


दरअसल, पूरा मामला बुधवार सुबह का है जब नगर निगम द्वारा शहर में काफी पुराने चिन्हित 26 अति जर्जर मकानों को तोड़ने की कार्रवाई की जा रही थी। जिसके तह​त गंजी कंपाउंड स्थित एक अति जर्जर मकान को तोड़ने पहुंची निगम की टीम के साथ शहर के तीसरे नंबर के भाजपा विधायक आकाश विजयवर्गीय के साथ विवाद हो गया।

विधायक ने निगम अधिकारियों व कर्मचारियों को धमकी भरे लहजे में चेेतावनी देते हुए कहा कि 5 मिनट में यहां से निकल जाना वर्ना जो होगा उसकी जिम्मेदारी आप लोगों की होगी। यह कहते उन्होंने जेसीबी पोकलेन की चाबी निकाल ली।

निगम कर्मचारियों ने विधायक को समझाने का प्रयास किया। इस दौरान जमकर तू-तू मैं-मैं हुई और विवाद बढ़ गया। इस बीच विधायक अपना आपा खो बैठे और उन्होंने क्रिकेट बेट से निगम कर्मचारियों पर हमला कर दिया। बता दें विधायक आकाश भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के पुत्र है। हालांकि वहां उपस्थित पुलिस और अन्य लोगों ने किसी तरह विधायक को पकड़कर शांत करवाया।

वहीं विवाद के बाद आकाश ने कहा, 'मैं बहुत गुस्से में था। मैंने क्या कर दिया मुझे नहीं पता। निगम के अफसर ने एक महिला के साथ गाली-गलौज की और हाथ पकड़ा, जिससे मुझे गुस्सा आ गया।

Share it
Top