Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दो महीने स्कूलों में भीगते रहे बच्चे, अधिकारियों ने नही ली सुध, अब शिक्षा विभाग करवाएगा मरम्मत

बारिश जाने को है और सर्दी का सीजन आने को। वहीं शिक्षा विभाग कह रहा है कि अब जर्जर स्कूल भवनों की मरम्मत कराई जाए। स्कूल शिक्षा विभाग के आला अधिकारी इस मामले में अब तक सोए रहे जबकि मासूम बच्चे पिछले तीन महीने से खस्ता हाल स्कूलों में भीगते रहे।

दो महीने स्कूलों में भीगते रहे बच्चे, अधिकारियों ने नही ली सुध, अब शिक्षा विभाग करवाएगा मरम्मत
X

भोपाल। बारिश जाने को है और सर्दी का सीजन आने को। वहीं शिक्षा विभाग कह रहा है कि अब जर्जर स्कूल भवनों की मरम्मत कराई जाए। स्कूल शिक्षा विभाग के आला अधिकारी इस मामले में अब तक सोए रहे जबकि मासूम बच्चे पिछले तीन महीने से खस्ता हाल स्कूलों में भीगते रहे। इसे लेकर किसी भी सुपर विजन अधिकारी ने कोई संज्ञान नही लिया जबकि कई मासूम भीगने से बीमार भी हुए, तो कुछ ने शाला त्याग प्रमाण पत्र लेकर निजी स्कूलों में एडमिशन ले लिया ।

विभाग ने गहरी नींद से जागते हुए स्कूलों की मरम्मत के लिए प्राचार्यो और शाला प्रभारियों को निर्देश जारी किए हैं। जिला शिक्षा अधिकारी केपीएस तोमर ने भवनों की मरम्मत का यह फरमान जारी करते हुए कहा है कि जिले में लगातार बारिश के कारण संस्थाओं में भवन की छत से पानी आना, परिसर में पानी भराव, शौचालयों की मरम्मत, शाला की सफाई न होने से बच्चों की पढ़ाई में व्यवधान होता है।

इन कारणों से पढ़ाई बाधित न हो इसके लिए संस्था को प्रतिवर्ष प्रदाय की जाने वाली राशि से छत की मरम्मत एवं शाला की साफ-सफाई कराई जाए। इसके लिए संस्था में उपलब्ध राशि का उपयोग करें। डीईओ के इस आदेश ने विभाग की कार्यप्रणाली पर कई सवालियां निशान लगा दिए हैं, क्योंकि यह आदेश तब जारी किया गया है जब बारिश का मौसम आखिरी पड़ाव पर है। बच्चे दो माह तक परेशानी झेल कर स्कूल आए हैं और अब विभाग के आला अधिकारी सांप निकलने बाद लाठी पीट रहे हैं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story