logo
Breaking

पोस्टमार्टम के लिए बैलगाड़ी में 20 घंटे तक पड़ा रहा शव, पर नहीं आए डॉक्टर

गौरिहार के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में डॉक्टरों की बड़ी लापरवाही के साथ साथ मानवता को शर्मसार कर देने वाला मामला सामने आया है। जहां गुरुवार से शव को पोस्टमार्टम के लिए 20 घंटे इंतजार करना पड़ा।

पोस्टमार्टम के लिए बैलगाड़ी में 20 घंटे तक पड़ा रहा शव, पर नहीं आए डॉक्टर

छतरपुर। गौरिहार के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में डॉक्टरों की बड़ी लापरवाही के साथ साथ मानवता को शर्मसार कर देने वाला मामला सामने आया है। जहां गुरुवार से शव को पोस्टमार्टम के लिए 20 घंटे इंतजार करना पड़ा। शुक्रवार को करीब 11 बजे पीएचसी पहरा में पदस्थ डॉ. आलोक प्यासी ने गौरिहार पहुंचकर शव पोस्टमार्टम किया।

मिली जानकारी के अनुसार 14 मई को उत्तरप्रदेश के बांदा जिले के नरैनी जा रहे ग्राम कितपुरा निवासी श्रीराम श्रीवास (40) रास्ते में अज्ञात ट्रक की चपेट में आकर वह गंभीर रूप से घायल हो गया था। जिसके बाद उसे बांदा के मेडिकल कॉलेज रेफर किया गया था यहां हालत में सुधार न होने के कारण डॉक्टरों ने उसे कानपुर रेफर कर दिया था।

मृतक के बड़े भाई बैजनाथ श्रीवास ने बताया कि 16 मई दोपहर 2 बजे श्रीराम की मौत हो गई। वे दोपहर साढ़े तीन बजे शव लेकर गौरिहार आ गए। स्वास्थ्य केंद्र में डॉक्टरों के नहीं होने के कारण 20 घंटे तक इंतजार करना पड़ा।

बैजनाथ ने बताया कि उन्होंने प्रभारी बीएमओ डॉ. एस प्रजापति को जानकारी दी थी। उसके बाद भी 16 मई की शाम तक पीएम नहीं हो सका। दूसरे दिन शुक्रवार को करीब 11 बजे पीएचसी पहरा में पदस्थ डॉ. आलोक प्यासी ने गौरिहार पहुंचकर शव का पीएम किया। इसके बाद गौरिहार पुलिस ने पंचनामा बनाकर शव परिजनों को सौंप दिया।


Share it
Top