Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मध्य प्रदेश चुनाव / उत्तर में भाजपा- मध्य में कांग्रेस का ऐसा है हाल

लगातार चार बार के विजेता विधायक आरिफ अकील को इस बार शिकस्त देने की मशक्कत में भाजपा ने पूरी ताकत लगा दी है। इस सीट को जिताने की जिम्मेदारी 2008 में अकील से पराजित हो चुके महापौर आलोक शर्मा को दी गई है।

मध्य प्रदेश चुनाव / उत्तर में भाजपा- मध्य में कांग्रेस का ऐसा है हाल
X

लगातार चार बार के विजेता विधायक आरिफ अकील को इस बार शिकस्त देने की मशक्कत में भाजपा ने पूरी ताकत लगा दी है। इस सीट को जिताने की जिम्मेदारी 2008 में अकील से पराजित हो चुके महापौर आलोक शर्मा को दी गई है।

भाजपा ने इस बार कांग्रेस विधायक और मंत्री रहे मरहूम रसूल अहमद सिद्दीकी की बेटी फातिमा रसूल सिद्दीकी को पार्टी में शामिल कराकर दूसरे ही दिन प्रत्याशी बनाया है। महापौर के प्रयास से ही उनका भाजपा प्रवेश और टिकट हुआ है।

जबकि मध्य सीट पर पिछले चुनाव में कांग्रेस के टिकट पर और उसके पहले एक दफा सपा के टिकट पर उत्तर सीट पर अकील से पराजित आरिफ मसूद ही फिर कांग्रेस प्रत्याशी हैं।

जिले की सात में छह सीटाें पर वर्तमान में भाजपा विधायक हैं। सिर्फ उत्तर सीट पर भाजपा का उम्मीदवार पिछले चार चुनावों से जीत नहीं पाया है। मुख्यमंत्री ने इस सीट को गोद भी लिया था, बावजूद इसके भाजपा उम्मीदवार को जीत हासिल नहीं हुई।

बीते चुनाव में पूर्व केंद्रीय मंत्री आरिफ बेग को टिकट दिया गया था, वे भी अकील से हार गए थे। इस बार भाजपा की फातिमा रसूल विकास को लेकर लोगों से वोट मांग रही हैं।

उनका कहना है कि मौजूदा विधायक ने पिछले पंद्रह सालों में कोई विकास नहीं किया है। इसलिए अब उम्मीदवार बदलकर विकास का साथ देना चाहिए। दूसरी तरफ कांग्रेस विधायक आरिफ अकील की मतदाताआें के बीच पैठ बरकरार है।

इधर मध्य सीट पर अब तक हुए दोनों चुनाव में भाजपा ही जीती है। बीते चुनाव में कांग्र्रेस के आरिफ मसूद भाजपा के सुरेंद्रनाथ सिंह से करीब सात हजार वोट से हारे थे। मसूद मोहल्ला बैठकें कर समर्थन जुटाने में लगे हुए हैं, जबकि वर्तमान विधायक सुरेंद्रनाथ सिंह भी दोबारा विधायक बनने के लिए जोर आजमाइश कर रहे हैं।

उत्तर में हार-जीत का अंतर

2013 में कांग्रेस के आरिफ अकील ने भाजपा के आरिफ बेग को 6 हजार 664 मतों से हराया था, जबकि वर्ष2008 में भाजपा के आलोक शर्मा को 4026 वोटों से हार का सामना करना पड़ा था। इसके पहले भी वर्ष 2003 के चुनाव में भाजपा के रामेश्वर शर्मा को 7 हजार 708 वोटों से हराया था। वे बीते चुनाव में हुजूर सीट से जीते और फिर प्रत्याशी हैं।

मध्य में यह रहा हाल

2013 में भाजपा के सुरेंद्रनाथ सिंह ने कांग्रेस के आरिफ मसूद को 6 हजार 981 वोटा से हराया था। जबकि वर्ष 2008 में कांग्रेस के नासिर इस्लाम को भाजपा के ध्रुवनारायण सिंह ने 2 हजार 519 वोटों से पराजित किया था। इसके पहले भी वर्ष-2003 के चुनाव में मध्य सीट का एक हिस्सा भोपाल उत्तर का हिस्सा था।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story