Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव/ दो सीटों पर चुनाव लड़कर तीन का गणित बिगाड़ रहे रामकृष्ण ‘बाबाजी''

दमोह जिले में भाजपा के बागी पूर्व मंत्री रामकृष्ण कुसमरिया उर्फ बाबाजी विधानसभा का चुनाव तो दो सीटों से लड़ रहे हैं, लेकिन वे जिले की तीन सीटों पर प्रचार कर वोट काट रहे हैं। बाबाजी की बगावत से भाजपा ही परेशान नहीं है, बल्कि मप्र के वित्त मंत्री जयंत मलैया की राजनीति भी दांव पर है।

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव/ दो सीटों पर चुनाव लड़कर तीन का गणित बिगाड़ रहे रामकृष्ण ‘बाबाजी
X
दमोह जिले में भाजपा के बागी पूर्व मंत्री रामकृष्ण कुसमरिया उर्फ बाबाजी विधानसभा का चुनाव तो दो सीटों से लड़ रहे हैं, लेकिन वे जिले की तीन सीटों पर प्रचार कर वोट काट रहे हैं। बाबाजी की बगावत से भाजपा ही परेशान नहीं है, बल्कि मप्र के वित्त मंत्री जयंत मलैया की राजनीति भी दांव पर है।
मलैया समर्थक उन्हें वोट बिगाड़ बाबा के नाम से नई उपमा दे रहे हैं, वहीं बाबा ने भाजपा के साथ ही कांग्रेस उम्मीदवारों की टेंशन भी बढ़ा दी है। चार बार सांसद रह चुके और मप्र सरकार के पूर्व मंत्री और वर्तमान में बुंदेलखंड विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष के रूप में केबिनेट मंत्री दर्जा रखने वाले रामकृष्ण कुसमरिया को क्षेत्र में लोग बाबाजी के नाम से जानते हैं।
कुसमरिया हमेशा पीले कुर्ता-धोती पहनते हैं और काली दाढ़ी रखते हैं। बाबाओं के जैसी वेशभूषा के चलते ही उनका नाम बाबाजी पड़ा। अब दमोह के भाजपाई और जयंत मलैया समर्थक उन्हें वोट बिगाड़ बाबा का एक नया नाम भी दे रहे हैं।
ठहाका लगाते हुए बुंदेली भाषा में कुसमरिया ने बताया - पहले हमने जब फारम वापस नई लओ तो गाना बना दओ कि, बाबा नई माने, मचल गए लड़वे खों। अब चुनाव प्रचार कर रहे सो उनने नओ नाम दे दओ वोट बिगाड़ बाबा। रिजल्ट के बाद एकाध और नओ नाम आ जैहे।
अब ताे चुनाव में मजा आ रहो, नीचे से लेकें ऊपर वालन तक खों समझ में आ जैहे कि चुनाव ऐसई नई लड़े जात। जातिगत गणित के हिसाब से दमोह जिला लोधी पटेल (कुर्मी )बहुल जिला माना जाता है। इस वर्ग के वोट बैंक में खासा प्रभाव रखने वाले कुसमरिया ने भाजपा की टेंशन बढ़ा दी है।

पथरिया में पंचकोणीय मुकाबला

पूर्व मंत्री रामकृष्ण कुसमरिया बाबाजी दमोह जिले की दमोह और पथरिया सीट से निर्दलीय चुनाव मैदान में हैं। पथरिया से वे पहले भी चुनाव जीतकर प्रदेश सरकार में कृषि मंत्री रह चुके हैं। उनके कार्यकाल में भी मप्र सरकार ने कृषि कर्मण अवार्ड पाया था।

यहां सपा की टिकट से अनुराग वर्धन हजारी मैदान में हैं। पथरिया की स्थानीय राजनीति में हजारी परिवार भी बड़ा दखल रखता है। पिछले पच्चीस वर्षों से पथरिया नगर पालिका पर इसी परिवार का कब्जा है।

अब तक नपा अध्यक्ष इसी परिवार का सदस्य बनता है या फिर आरक्षित सीट हो जाने पर हजारी परिवार का समर्थक अध्यक्ष बनता आया है। भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे विधायक लखन पटेल की मुश्किलें बाबाजी ने काफी बढ़ा दी हैं।

कांग्रेस से गौरव पटेल किला लड़ा रहे हैं, तो बसपा ने भी रामबाई परिहार को टिकट देकर चुनाव को पंच कोणीय बना दिया है। इस तरह से वे भी कुर्मी - पटेल समाज के वोट काट रहीं हैं।

दमोह: मलैया की राजनीति दांव पर

दमोह विधानसभा सीट पर भाजपा के बागी बाबाजी ने वित्त मंत्री और भाजपा प्रत्याशी जयंत मलैया के सामने संकट की स्थिति पैदा कर दी है। इस चुनाव में मलैया की राजनीति दांव पर लग गई है। इस सीट पर कांग्रेस के राहुल लोधी चुनाव मैदान में हैं।

कांग्रेस ने इस बार नया चेहरा मैदान में उतारा है। दमोह सीट पर बाबाजी अपने चुनाव चिन्ह ऑटो में बैठकर प्रचार कर रहे हैं। ऑटो पर उन्हें बैठा देख प्रचार करते हुए लोग उन्हें कौतूहलवश देख रहे हैं।

जबेरा में निर्दलीय का प्रचार

दमोह जिले की जबेरा सीट पर विधायक प्रताप लोधी फिर कांग्रेस के टिकट पर मैदान में हैं। भाजपा ने यहां धर्मेन्द्र लोधी को चुनाव में उतारा है। इस विधानसभा में ऋषि पटेल निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं। बाबाजी ने ऋषि पटेल को अपना समर्थन दिया है।

बाबाजी बाकायदा ऋषि पटेल का प्रचार भी कर रहे हैं। इसके अलावा अजा वर्ग के लिए आरक्षित हटा विधानसभा से भाजपा ने विधायक उमा देवी खटीक का टिकट काटकर पीएल तंतुवाय को मैदान में उतारा है। इसके चलते उमादेवी और उनके पति लालचंद खटीक की नाराजगी भी है।
दोनाें भाजपा के प्रचार में शामिल नहीं हैं। कांग्रेस से हरिशंकर चौधरी चुनाव लड़ रहे हैं। इसके अलावा निर्दलीय भी वोट काट रहे हैं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story