Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

एमपी में 25 लाख का बिल पास करने मांगी 1 लाख की रिश्वत, लोकायुक्त ने किया गिरफ्तार

लोकायुक्त पुलिस ने रविवार को संभागीय उद्यानिकी संयुक्त संचालक आरबी राजोदिया को एक लाख रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ पकड़ा है। लोकायुक्त के हत्थे चढ़ते ही राजोदिया ने रिश्वत की राशि फेंक दी और विवाद शुरू कर दिया।

नकली वॉशिंग पाउडर बनाने की फैक्ट्री का पर्दाफाश
X
अमृतसर में नारकोटिक सेल के दो एएसआई रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार (प्रतीकात्मक फोटो)

जबलपुर। लोकायुक्त पुलिस ने रविवार को संभागीय उद्यानिकी संयुक्त संचालक आरबी राजोदिया को एक लाख रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ पकड़ा है। लोकायुक्त के हत्थे चढ़ते ही राजोदिया ने रिश्वत की राशि फेंक दी और विवाद शुरू कर दिया। अधिकारियों ने किसी तरह राजोदिया को शांत कराया और फिर उनके घर में बने ऑफिस पहुंची जहां कई महत्वपूर्ण विभागीय फाइलें भी जब्त की गई। इसी कार्यालय में बैठकर टीम ने आगे की कार्रवाई पूरी की। लोकायुव्त ने राजोदिया के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के विभिन्न धाराओं में प्रकरण दर्ज कर जांच में लिया है।

कई महीने से अटकाया था बिल-

कार्रवाई के संबंध में डीएसपी जेपी वर्मा ने बताया कि पौध नर्सरी संचालक ने उद्यानिकी विभाग में सप्लाई किए गए पौधों के 25 लाख रुपए के बिल भुगतान का आवेदन लगाया था। उद्यानिकी संयुक्त संचालक राजोदिया ने बिलों का भुगतान करने के एवज में एक लाख रुपए की रिश्वत मांगी थी। रिश्वत नहीं मिलने से वह कई महीनों से भुगतान को लटका रखा था। तीन दिन पहले नर्सरी संचालक ने एसपी अनिल विश्वकर्मा से शिकायत की। इसके बाद दोनों की बातचीत को ट्रैप किया गया।

रूपये लेने बुलाया आवास पर-

डीएसपी वर्मा ने बताया कि संभागीय उद्यानिकी संयुक्त संचालक आरबी राजोदिया ने नर्सरी संचालक को रिश्वत की रकम लेकर रविवार सुबह 9 बजे अधारताल संजय नगर स्थित एमपीईबी कार्यालय के सामने बने अपने आवास पर बुलाया। जैसी ही नर्सरी संचालक वहां पहुंचा और उसने रिश्वत की रकम दी वैसे ही लोकायुक्त टीम में शामिल निरीक्षक आॅस्कर किंडो, कमल सिंह उईके, आरक्षक अतुल श्रीवास्तव, दिनेश दुबे, विजय सिंह बिष्ट, रविंद्र सिंह पहुंच गए। लोकायुक्त टीम ने रिश्वत की रकम लेते ही राजोदिया को दबोच लिया।

बचने के लिए किया हंगामा-

लोकायुक्त टीम को देखते ही राजोदिया ने रिश्वत की रकम फेंक दी और हंगामा करने लगा। शोर सुनकर परिजन भी बाहर निकल आए। रिश्वत लिए जाने की जानकारी हुई तो वे भी स्तब्ध रह गए। इसके बाद डीएसपी वर्मा और उनकी टीम राजोदिया को उनके आवास में बने कार्यालय में ले गयी। जहां जांच में कई विभागीय दस्तावेज मिले हैं। जांच में पताचला कि आरोपी अधिकारी भुगतान सम्बंधी फाइलों को घर में ही दबाकर रखता था और पैसों का लेन-देन भी घर पर ही करता था।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story