logo
Breaking

खरगोन में कांग्रेस पर जमकर बरसे मोदी, कहा - एक उंगली दबाने की गलती ने पूरे प्रदेश को तबाह कर दिया है

PM ने कहा कि मैं आदिवासियों को इस बात के लिए भी आश्वस्त करता हूं कि जब तक मोदी और भाजपा है, तब तक जंगल में रहने वालों के अधिकारों को और उनकी जमीन को कोई हाथ नहीं लगा सकता। उन्होंने कहा कि आपका ये सेवक आदिवासी समाज की पढ़ाई, कमाई, दवाई, सिंचाई और जन-जन की सुनवाई के लिए पूरी निष्ठा से काम कर रहा है।

खरगोन में कांग्रेस पर जमकर बरसे मोदी, कहा - एक उंगली दबाने की गलती ने पूरे प्रदेश को तबाह कर दिया है

खरगोन। खरगोन (Khargone) में सभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी (Narendra modi) ने कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। पीएम ने कहा कि कांग्रेस ने किसानों से वाद किया था कि दस दिनों के अंदर कर्ज माफ करेंगे, लेकिन सरकार बनने के बाद इन्होंने कर्ज माफ नहीं किया। इसके साथ ही पीएम ने बिजली बिल को लेकर भी कांग्रेस पर तंज कसा। पीएम ने कहा कि बिजली के वादे के साथ तो इन्होंने ऐसा खेल कर दिया कि अच्छे-अच्छे चकरा जाएं। इन्होंने बिजली का बिल आधा करने का वादा किया था। लेकिन इनका शैतानी दिमाग देखिए, बिजली का बिल तो आधा किया नहीं, बिजली ही आधी कर दी। तुगलक रोड चुनाव घोटाला सारे देश ने देखा है। कांग्रेसी नेताओं के घर से बोरे भर भर के नोट निकले हैं। उन्होंने कहा कि एक उंगली दबाने की गलती ने पूरे प्रदेश को तबाह कर दिया है।

मोदी ने कहा कि आतंकवाद और नक्सलवाद को खत्म करने की हमारी प्रतिबद्धता को भरपूर जन समर्थन मिला है। पीएम ने कहा कि यह देश की भावना है कि आतंकियों को घर में घुस कर मारा जाए। इस पर हर हिंदुस्तानी को गर्व होता है। हमारे वीर सपूतों ने हमारा मान बढ़ाया है। वहीं कांग्रेस पार्टी सैनिकों से अधिकार छिनना चाहती है। लोग जम्मू कश्मीर के लिए अलग अलग प्रधानमंत्री की बात करते हैं। जनता ऐसे लोगों को इस चुनाव में बड़ी सजा देगी। मोदी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस ने कर्नाटक में ऐसे व्यक्ति को मुख्यमंत्री बनाया है जो कहता है कि रोटी खाने के लिए लोग सेना में जाते हैं। क्या यह सेना के जवानों का अपमान नहीं है। देश वीरों का अपमान नहीं सहेगा। उन्हें सजा जरूर देगा।

PM ने कहा कि मैं आदिवासियों को इस बात के लिए भी आश्वस्त करता हूं कि जब तक मोदी और भाजपा है, तब तक जंगल में रहने वालों के अधिकारों को और उनकी जमीन को कोई हाथ नहीं लगा सकता। उन्होंने कहा कि आपका ये सेवक आदिवासी समाज की पढ़ाई, कमाई, दवाई, सिंचाई और जन-जन की सुनवाई के लिए पूरी निष्ठा से काम कर रहा है। पढाई के लिए देशभर में एकलव्य स्कूलों का एक व्यापक नेटवर्क बनाया जा रहा है। आदिवासी क्षेत्रों से विश्व स्तरीय खिलाड़ी तैयार करने का हमने अभियान चलाया है। वनधन केंद्रों के माध्यम से वन-उपज में मूल्य वृद्धि करने के लिए हम निरंतर काम कर रहे हैं।


Share it
Top