Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

चाइल्ड पोर्नोग्राफी के अंतरराष्ट्रीय वॉट्सऐप ग्रुप का खुलासा, पाक समेत 28 देशों के जुड़े हैं तार

चाइल्ड पोर्नोग्राफी की बेहद घिनौनी सामग्री के अवैध प्रसार से जुड़े अंतरराष्ट्रीय वॉट्सऐप ग्रुप में शामिल मध्यप्रदेश के तीन लोगों को पुलिस के साइबर दस्ते ने धर दबोचा है।

चाइल्ड पोर्नोग्राफी के अंतरराष्ट्रीय वॉट्सऐप ग्रुप का खुलासा, पाक समेत 28 देशों के जुड़े हैं तार
X

चाइल्ड पोर्नोग्राफी की बेहद घिनौनी सामग्री के अवैध प्रसार से जुड़े अंतरराष्ट्रीय वॉट्सऐप ग्रुप में शामिल मध्यप्रदेश के तीन लोगों को पुलिस के साइबर दस्ते ने धर दबोचा है। इस ग्रुप से भारत समेत 28 देशों के लोग जुड़े हैं।

राज्य साइबर सेल की इंदौर इकाई के पुलिस अधीक्षक जितेंद्र सिंह ने बुधवार को बताया कि मामले में नजदीकी महू कस्बे के इलेक्ट्रिकल इंजीनियर मकरंद सालुंके (24), धार जिले के बर्तन कारोबारी ओंकार सिंह राठौर (43) और खंडवा जिले के12वीं के नाबालिग छात्र को गिरफ्तार किया गया है।

यह भी पढ़ें- विदेशी छात्रों को आकर्षित करने के लिए 'स्टडी इन इंडिया' शुरू, जानिए क्या है खास

इनके खिलाफ सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की चाइल्ड पोर्नोग्राफी से जुड़ी धारा 67-बी के तहत प्राथमिकी दर्ज की गयी है। सिंह ने बताया कि तीनों आरोपी ‘किड्स ओनली सेक्स' नाम के वॉट्सऐप ग्रुप से जुड़े पाए गए।

256 सदस्यों वाले इस समूह में शामिल अधिकांश लोग पूर्वोत्तर और दक्षिण भारतीय राज्यों के रहने वाले हैं। इस ग्रुप से नेपाल, पाकिस्तान, सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात, श्रीलंका, मैक्सिको, कनाडा, म्यामां, वियतनाम, युगांडा और अल्जीरिया समेत 27 अन्य देशों के लोग भी जुड़े हैं।

यह भी पढ़ें- Bank Fraud: बैंकों को 2600 करोड़ का चूना लगाने वाले डायमंड पावर के तीन प्रमोटरों को CBI ने किया गिरफ्तार

पुलिस अधीक्षक ने बताया, जब हमने मामले का खुलासा किया, तब इस ग्रुप को कुवैत के मोबाइल नंबर से चलाया जा रहा था। हालांकि, इस ग्रुप के एडमिन लगातार बदलते रहते हैं। भारत का एक व्यक्ति भी इस ग्रुप का एडमिन रह चुका है जो संभवतः गुजरात का रहने वाला है।

सिंह ने बताया, चाइल्ड पोर्नोग्राफी के वॉट्सऐप ग्रुप से जुड़ने के लिए उन चुनिंदा लोगों को लिंक भेजकर आमंत्रित किया जाता था, जो इस सोशल मैसेजिंग प्लेटफॉर्म पर अश्लील सामग्री परोसने वाले दूसरे समूहों से जुड़े होते थे।

फिलहाल हमें ऐसे सुराग नहीं मिले हैं कि इस ग्रुप से जोड़े जाने के बदले सदस्यों से कोई शुल्क वसूला जाता था। उन्होंने बताया कि पूरे मामले से सीबीआई और संबंधित राज्यों की पुलिस के साइबर दस्तों को भी अवगत कराया जा रहा है ताकि ग्रुप के अन्य सदस्यों को गिरफ्तार किया जा सके।

सिंह ने बताया कि वॉट्सऐप पर चाइल्ड पोर्नोग्राफी के कुछ अन्य समूहों के बारे भी सूचना मिली है। इस बारे में जांच की जा रही है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story