Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

केंद्र सरकार ने मध्यप्रदेश का हक रोका तो हम उससे भिड़ जाएंगेः कमलनाथ

नए सीएम कमलनाथ से हरिभूमि का सीधा सवाल था- केंद्र सरकार ने मप्र के हक को रोका तो आपकी सरकार क्या करेगी? कांग्रेस ने अपने वचन पत्र में जो कहा है, उसे अक्षरश: पूरा किया जाएगा और यदि केंद्र सरकार ने प्रदेश का हक देने में पक्षपात किया तो प्रदेश के हित में हम उससे लड़ेंगे। कमलनाथ शपथ लेने के फौरन बाद प्रिंट और चैनल मीडिया में सबसे पहले हरिभूमि अखबार से बात कर रहे थे।

केंद्र सरकार ने मध्यप्रदेश का हक रोका तो हम उससे भिड़ जाएंगेः कमलनाथ
X

नए सीएम कमलनाथ से हरिभूमि का सीधा सवाल था- केंद्र सरकार ने मप्र के हक को रोका तो आपकी सरकार क्या करेगी? कांग्रेस ने अपने वचन पत्र में जो कहा है, उसे अक्षरश: पूरा किया जाएगा और यदि केंद्र सरकार ने प्रदेश का हक देने में पक्षपात किया तो प्रदेश के हित में हम उससे लड़ेंगे। कमलनाथ शपथ लेने के फौरन बाद प्रिंट और चैनल मीडिया में सबसे पहले हरिभूमि अखबार से बात कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि देश और प्रदेश की जनता बहुत समझदार है। वह कभी ठगी बर्दाश्त नहीं करती। यदि उसे आभास हो जाए कि उसे ठगा गया है, छला गया है तो सबक सिखाने में देर नहीं करती। मप्र सहित तीन राज्यों में कांग्रेस की सरकार बनना भाजपा को जनता द्वारा सिखाए सबक का ही नतीजा है।

हरिभूमि: सरकार का खजाना खाली है और आपने वचन पत्र में कर्जमाफी, बेरोजगारी भत्ते के साथ कई घोषणाएं हैं, उन्हें पूरा करने के लिए पैसा कहां से आएगा?
कमलनाथ : यह सच है कि प्रदेश का खजाना खाली पड़ा है लेकिन हमने वचन पत्र में जो भी वादे किए हैं उन्हें नई सोच के साथ नए संसाधन जुटाकर पूरा करेंगे। खर्च में कटौती होगी, कर्ज पर शिकंजा कसा जाएगा।
हरिभूमि: यदि केंद्र सरकार ने मदद कम की तो समस्या और ज्यादा होगी, कैसे निबटेंगे?
कमलनाथ: हम केंद्र सरकार से अपील करेंगे कि बगैर राजनीतिक भेदभाव के जिस तरह से हमारी यूपीए सरकार ने शिवराज सरकार की मदद की थी, इसी तरह हमारी सरकार की भी मदद करे और यदि केंद्र सरकार ने राजनीतिक भेदभाव से काम किया तो निश्चित ही प्रदेश के हित की लड़ाई लड़ेंगे और प्रदेश का हक लेकर रहेंगे।
हरिभूमि: बेरोजगारी की समस्या बड़ी है, इससे कैसे निबटेंगे?
कमलनाथ: मुझे मालूम है कि मंदिर-मस्जिद जाने से रोजगार के अवसर नहीं आते। इसके लिए जरूरी है कि ज्यादा से ज्यादा निवेश आए। यह तभी संभव है जब प्रदेश में विश्वास का वातावरण बने। मैं देश का वाणिज्य मंत्री रह चुका हूं, इसलिए जानता हूं कि अर्थव्यवस्था कैसे चलाई जाती है। निवेश लाने के लिए जरूरी कदम उठाए जाएंगे।
हरिभूमि: चुनाव के दौरान छिंदवाड़ा मॉडल की खूब चर्चा रही, क्या है यह मॉडल?
कमलनाथ: यह लोगों के दुख-तकलीफ दूर करने की एक व्यवस्था है। अब आप छिंदवाड़ा की सोच को प्रदेश के हर जिले में देखेंगे, क्योंकि मैं अब हर जिले का मुख्यमंत्री हूं।
जिन अफसरों ने चुनाव में भाजपा के दबाव और प्रभाव में काम किया है, उनको हम कतई माफ नहीं करेंगे
हरिभूमि का सवाल था - क्या विधानसभा चुनाव में सरकारी मशीनरी निष्पक्ष रही, यदि नहीं तो गड़बड़ करने वाले अफसरों की पहचान कैसे करेंगे और क्या कार्रवाई करेंगे? उनका जवाब था- कई स्थानों पर सरकारी अफसरों द्वारा गड़बड़ी करने की शिकायतें मिली हैं। मैं भी लगातार संपर्क में था इसलिए कई अफसर सुधर गए लेकिन कई जिलों में भाजपा के दबाव-प्रभाव में आकर अधिकारियों ने काम किया, उनकी सूची हम तैयार कर रहे हैं। ऐसे अधिकारियों को कतई माफ नहीं किया जाएगा।
- नतीजों को लेकर हमें कुछ आशंका है, क्योंकि ईवीएम खराब होने की सबसे ज्यादा शिकायतें सतना सहित विंध्य अंचल से मिलीं
- जनता में जितनी नाराजगी शिवराज सरकार के प्रति थी, उससे कहीं ज्यादा मोदी सरकार से, मप्र में हमें लोकसभा में 21 से 22 सीटें मिलेंगी
हरिभूमि: चुनाव के दौरान शिवराज और भाजपा की किस चूक का फायदा कांग्रेस को मिला?
कमलनाथ: भाजपा अथवा शिवराज से चुनाव के दौरान कोई चूक नहीं हुई। सच यह है कि शिवराज ने प्रदेश को ठीक ढंग से पहचाना ही नहीं। यही कारण है कि किसान आत्महत्या हो, भ्रष्टाचार हो, बेरोजगारी हो अथवा बलात्कार सभी में प्रदेश पहले पायदन पर है। इसके अलावा लगातार झूठ बोलकर जनता को ठगा गया। इन्हीं चूकों की वजह से भाजपा सत्ता से बाहर हुई।
हरिभूमि: शिवराज की भाजपा सरकार और आपकी सरकार में बुनियादी फर्क क्या होगा?
कमलनाथ: भाजपा की सरकार में भ्रष्टाचार गांव से शुरू होकर भोपाल तक चरम पर था। छोटे छोटे कामों से लेकर बड़े स्तर के काम बिना रिश्वत दिए नहीं होते थे। मेरी कोशिश होगी कि इस भ्रष्टाचार को जड़ से समाप्त किया जाए। इसके लिए योजना बनाकर काम किया जाएगा और भ्रष्टाचारियों के खिलाफ तत्काल कार्रवाई की जाएगी।

हरिभूमि: आपने 140 सीटों में जीत का दावा किया था, कहां कमी रह गई?
कमलनाथ: निश्चित ही हमारा अनुमान 140 सीट जीतने का था। हमें विंध्य इलाके से कम सीटें मिलीं, जबकि हमें अनुमान ज्यादा सीट जीतने का था। नतीजों को लेकर हमें कुछ आशंका है। क्योंकि ईवीएम खराब होने की सबसे ज्यादा शिकायतें सतना सहित विंध्य अंचल से मिलीं।
हरिभूमि: तो क्या ईवीएम में गड़बड़ी की अपनी तरफ से किसी तरह की जांच कराएंगे?
जवाब: निश्चित ही, विंध्य इलाके में जिस तरह से हमें सीटें कम मिली और ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायतें मिलीं। इसकी जांच मैं अपने स्तर पर किसी एजेंसी से कराऊंगा। एजेंसी न कांग्रेस की होगी और न ही सरकारी। हम मतदाता सूचियों की तर्ज पर इसकी भी जांच कराएंगे। विंध्य के जो रिजल्ट आए हैं वे लोगों की राय से मेल नहीं खाते।
हरिभूमि: 6 माह के अंदर लोकसभा चुनाव हैं, आपको मप्र में कितनी सीटें जीतने की उम्मीद है?
कमलनाथ: जिस तरह की सफलता हमें विधानसभा चुनाव में मिली है उम्मीद है कि उससे ज्यादा सफलता लोकसभा चुनाव में मिलेगी। हम लोगों को भरोसा दिलाएंगे कि यह जनता की सरकार है। उनके साथ कोई धोखा नहीं होगा। जनता में जितनी नाराजगी शिवराज सरकार के प्रति थी, उससे कहीं ज्यादा केंद्र की मोदी सरकार से है। मुझे उम्मीद है कि लोकसभा में कांग्रेस मप्र में 21 से 22 सीटें जीतेगी।
हरिभूमि: क्या कांग्रेस सरकार प्रतिशोध की राजनीति में यकीन रखती है?

कमलनाथ: हम समाज के हर तबके के विकास में और जमीन पर हकीकत में किए गए काम में यकीन रखते हैं। प्रतिशोध में हमारा यकीन नहीं है। हमारे राहुलजी ने कहा भी था कि हम भाजपा को प्यार से हराएंगे। हमने उसे प्यार से हराया भी। हम आगे भी उससे लड़ेंगे और जीतेंगें पर भाजपा को मिटाएंगे नहीं। हमारा फलसफा आदर और सम्मान का है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story