Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मध्य प्रदेश: कांग्रेस अध्यक्ष ने बिजनेसमैन होने से किया इंकार, कहा- हर चुनाव में देता हूं ब्यौरा

गुटबाजी के सवाल पर कमलनाथ ने कहा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया और वे कल ही साढ़े तीन घंटे एक साथ रहे। वे 6-7 माह से लगातार एक-दूसरे के साथ हैं।

मध्य प्रदेश: कांग्रेस अध्यक्ष ने बिजनेसमैन होने से किया इंकार, कहा- हर चुनाव में देता हूं ब्यौरा
X

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने रविवार को इस बात से इंकार किया कि वे एक उद्योगपति हैं। उन्होंने कहा कि मैं किसी भी औद्योगिक परिवार से नहीं जुड़ा हूं।

उन्होंने कहा कि मैं जो भी हूं और मेरे पास जो कुछ भी हो, उसका पूरा ब्यौरा में हर चुनाव में रखता हूं। इसे कोई भी देख सकता है। इसलिए भाजपा के भ्रामक प्रचार में आने की जरूरत नहीं है।

कमलनाथ प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में पार्टी के जिलाध्यक्षों की बैठक के बाद पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। गुटबाजी से जुड़े सवाल पर उन्होंने फिर स्पष्ट किया कि ज्योतिरादित्य सिंधिया और वे कल ही साढ़े तीन घंटे एक साथ रहे। वे 6-7 माह से लगातार एक-दूसरे के साथ हैं।

उन्होंने कहा कि अब आपको किसी भी छोर से ऐसी आवाज उठती नहीं दिखाई पड़ेगी, जिससे लगे कि कांग्रेस में गुटबाजी है। अलबत्ता, इस तरह का भ्रामक प्रचार भाजपा जरूर कर सकती है।

इसे भी पढ़ें- उत्तर प्रदेश: सपा के सहयोग से कैराना लोकसभा उपचुनाव में उतरेगी RLD, तबस्सुम होंगी कैंडिडेट

मीडिया से दु:खी नजर आए

पत्रकारों से बातचीत में कमलनाथ कुछ शिकायती अंदाज में भी बोलते नजर आए। उन्होंने सभी से आग्रह किया कि आप सिर्फ सच छापिए और हमारा सहयोग कीजिए।

उनकी बात से स्पष्ट था कि मीडिया में जो कुछ भी छप रहा है, उससे वे दु:खी हैं। इसलिए बार-बार मीडिया से सहयोग की बात कर रहे थे।

तीन माह में बूथ स्तर तक खड़ी दिखेगी पार्टी

कमलनाथ ने कहा कि बूथ स्तर पर कमेटियों को सक्रिय करने का 90 फीसदी काम पूरा हो चुका है। बूथ कमेटियों की सूचियां तैयार हैं। उन्होंने कहा कि आप पाएंगे कि 2-3 माह के अंदर समूची पार्टी भाजपा से मुकाबले के लिए मैदान में खड़ी है।

उन्होंने कहा कि हमारा मुकाबला भाजपा के धनबल एवं मजबूत संगठन से है और हम उसे हराएंगे। कमलनाथ ने बताया कि जिलाध्यक्षों की बैठक में आज बहुत सारे सुझाव आए हैं, उन पर काम किया जाएगा।

इसे भी पढ़ें- दिल्ली में हर दिन 5 से अधिक महिलाओं से बलात्कार, पुलिस ने कही ये बात

किसानों की समस्याओं का समाधान नहीं

कमलनाथ ने स्वीकार किया कि मप्र को कृषि कर्मण अवार्ड मिले हैं और यह भी कि प्रदेश में उत्पादन बढ़ा है, पर इसके बाद भी किसानों की समस्याओं का समाधान नहीं हुआ। किसानों की पैदावार रखने की कोई व्यवस्था नहीं है।

किसानों को उनकी उपज का मूल्य नहीं मिल रहा। यूपीए सरकार के समय समर्थन मूल्य बढ़ाने की बात होती थी लेकिन अब किसानों को समर्थन मूल्य दिलाने की बात होती है। हमने दाल के आयात पर रोक लगाई थी ताकि किसान न पिटे पर इस सरकार को चिंता नहीं है। भाजपा सरकार के पास कोई एक्शन प्लान नहीं है।

इनपुट- भाषा

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story