Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

शर्मनाकः भोपाल मेमोरियल अस्पताल प्रबंधन ने चार घंटे तक परिजनों को नहीं दिया शव

भोपाल मेमोरियल अस्पताल प्रबंधक द्वारा लापरवाही करने के मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है। शुक्रवार को ऐसा ही मामला सामने आया। दरअसल छोला शक्ति नगर में रहने वाले एक व्यक्ति की पीलिया की बीमारी के चलते मौत हो गई थी। जिसके बाद परिजन उसे भोपाल मेमोरियल अस्पताल ले गए।

शर्मनाकः भोपाल मेमोरियल अस्पताल प्रबंधन ने चार घंटे तक परिजनों को नहीं दिया शव
X
भोपाल मेमोरियल अस्पताल प्रबंधक द्वारा लापरवाही करने के मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है। शुक्रवार को ऐसा ही मामला सामने आया। दरअसल छोला शक्ति नगर में रहने वाले एक व्यक्ति की पीलिया की बीमारी के चलते मौत हो गई थी। जिसके बाद परिजन उसे भोपाल मेमोरियल अस्पताल ले गए।
जहां डॉक्टरों ने जांच के बाद व्यक्ति को मृतक घोषित कर दिया। इसके बाद उन्होंने शव को मोर्ची में रखवा दिया। परिजनों ने जब शव को मांगा,तो डॉक्टर व मोर्चरी स्टॉप द्वारा शव देने से माना कर दिया। परिजन जब डॉक्टरों के पास जाते,तो ये काम हमारा नहीं। यह कहते हुए परिजनों को मोर्चरी स्टॉप के यहां भिजा देते।
परिजन यहां जाते,तो स्टॉप यहीं बात कहते हुए डॉक्टरों के पास जाने के लिए कह देते। इससे नाराज परिजनों ने अस्पताल परिसर में हंगामा शुरू कर दिया। मामले की जानकारी मिलने पर बड़ी संख्या में पुलिस बल वहां पहुंच गया। इसके बाद पंचनामा आदि बनाने के बाद शव को पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए हमीदिया अस्पताल में रखा दिया।
इसके चलते करीब चार घंटे तक परिजनों को परेशान होना पड़ा। खास बात यह है कि मृतक भोपाल मेमोरियल अस्पताल में ही कम्प्यूटर ऑपरेटर था। उल्लेखनीय कि इसके पहले भी भोपाल मेमोरियल अस्पताल प्रबंधक द्वारा मृतक के परिजनों को दूसरे शख्स की बॉडी सौप दी थी।
जानकारी के अनुसार शक्ति नगर छोला में रहने वाले आशीष सितारे पिता कैलाश चंद्र सितारे 36 साल भोपाल मेमोरियल अस्पताल में ही कम्प्यूटर आॅपरेटर था। जोकि कई दिनों से पीलिया की बीमारी से पीड़ित था। शुक्रवार को सुबह जब परिजन आशीष के कमरे में पहुंचे,तो वह बेसुध हालत में पड़ता था।
जिसके बाद परिजन उसे भोपाल मेमोरियल अस्पताल लेकर पहुंचे,जहां डॉक्टरों ने जांच के बाद मृतक घोषित कर दिया। इसके साथ ही शव को मोर्चरी में रखवा दिया। जब परिजनों ने डॉक्टरों से शव को मांगा,तो उन्होंने यह कहते हुए यह काम हमारा नहीं है और मोर्चरी स्टॉप के पास पहुंच दिया।
वहीं मोर्चरी स्टॉप द्वारा भी यहीं बात कहते हुए,शव देने से माना कर दिया। जिसके बाद परिजनों ने हंगामा शुरू कर दिया। मामले की जानकारी मिलने के बाद बड़ी संख्या में पुलिस बल मौके पर पहुंच गया। हालाकि बाद में पुलिस की समझाने के बाद परिजन शांत हो गए। इसके बाद पुलिस ने पंचनामा तैयार कर शव को पोस्ट माटम के लिए हमीदिया अस्पताल मोर्चरी में रखवा दिया।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story