Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Teachers Day Special 2019 : शिक्षक का ऐसा जुनून, पढ़ाई के साथ बच्चों की सेहत का भी रखते हैं ख्याल, खुद करते हैं टॉयलेट साफ

आज तक आपने स्कूलों में शिक्षक को पढ़ते-पढ़ाते व अन्य काम करते जरूर देखा होगा, पर क्या आपने कभी किसी शिक्षक को स्कूल के टॉयलेट घर की सफाई करते देखा है।

Teachers Day Special 2019 : शिक्षक का ऐसा जुनून, पढ़ाई के साथ बच्चों की सेहत का भी रखते हैं ख्याल, खुद करते हैं टॉयलेट साफ
X

कटनी। आज तक आपने स्कूलों में शिक्षक को पढ़ते-पढ़ाते व अन्य काम करते जरूर देखा होगा, पर क्या आपने कभी किसी शिक्षक को स्कूल के टॉयलेट घर की सफाई करते देखा है। जी हां, आपको सुनने में ये बात थोड़ी अजीब जरूर लगेगी, पर हम आज आपको जिन शिक्षक के बारे में बताने जा रहे हैं उनके स्कूल के प्रति त्याग को देखकर आप भी उस शिक्षक को सलाम जरूर करेंगे। हम बात कर रहे हैं कटनी के शासकीय माध्यामिक शाला बिजौरी के शिक्षक सोनेलाल विश्वकर्मा की।

शिक्षक सोनेलाल स्वच्छता के लिए किसी मिसाल से कम नहीं है। सोनेलाल स्कूल का गेट खोलने के बाद सबसे पहले झाड़ू, वांशिंग पाउडर, टॉयलेट क्लीनर को लेते हैं और स्कूल के शौचालय की खुद सफाई करते हैंं। शौचालायों की सफाई करने के बाद शिक्षक सोनेलाल सभी कक्षाओं की सफाई करते है उसके बाद बच्चों के स्कूल आने पर उनकी पढ़ाई पर फोकस करते हैंं। आपको जानकर ताज्जुब होगा कि सोनेलाल ऐसे शिक्षक हैं जो कभी अवकाश ही नहीं लेते। वे विद्यालय के प्रति समर्पित भाव से जुड़े रहते हैं।

इन सब में खास बात है स्कूल और बच्चों के लिए उनके इस लगाव को देखकर स्वयं छात्र भी खुद को नहीं रोक पाते और परिसर की सफाई में अपने शिक्षक का हाथ बटाने जुट जाते हैं। स्कूल के बच्चे व अभिभावक शिक्षक की इस पहल को सलाम कर रहे हैं।

स्कूल और बच्चे ही मेरी धरोहर हैं

इस बारे में जब शिक्षक सोनेलाल विश्वकर्मा ने बताया बचपन से ही उनका स्कूल के प्रति लगाव है। शिक्षक बनने के बाद कुछ अलग कर गुजरने की ललक मेरे मन में हमेशा रही। सोनेलाल चाहते हैं कि वह बच्चों को ऐसी तालीम दे कि वे स्कूल और गांव में नाम रोशन कर सकें। स्कूल और बच्चे ही मेरी सबसे बड़ी धरोहर हैं। मेरे मन में यह भाव रहता है कि जहां से भी निकलूं तो बच्चे यह कहें कि ये हमारे मास्साब हैं और अभिभावक भी खुश रहें कि बच्चों को स्कूल में बढिय़ा माहौल है।

इस संबंध में माध्यमिक स्कूल के सोनेलाल विश्वकर्मा का कहना है कि स्कूल हमारा मंदिर है ऐसे में मंदिर रूपी शाला का स्वच्छ रहना बेहद आवश्यक है। स्कूल साफ रहेगा, परिसर के साथ प्रसाधन को स्वच्छ रखेंगे तभी हम बच्चों के लिए बेहतर माहौल दे पाएंगे। उस पर अमल करने का प्रयास कर रहा हूं। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वच्छता के लिए बड़ा अभियान चला रहे हैं। उससे मैं बहुत प्रभावित हुआ हूं। इससे मैं स्कूल को स्वच्छ रखने का प्रयास करता हूं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story