Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

गुमशुदगी की जांच से गोरखधंधे का भंडाफोड़, काली करतूत जानकर दंग रह जाएंगे आप

एक परिवार महिला की गुमशुदगी दर्ज कराने पहुंचा। जैसा कि अमूमन पुलिस हर गुमशुदगी में जांच के लिए ब्योरा लिखती है वैसी जानकारी पर्चे में उतार ली गई। जांच को सामान्य मानते हुए एक कांस्टेबल को जांच दे दी गई। लेकिन, जांच का दायरा आगे बढ़ा तो कांस्टेबल के भी हाथ-पैर फूल गए।

गुमशुदगी की जांच से गोरखधंधे का भंडाफोड़, काली करतूत जानकर दंग रह जाएंगे आप
X
राजधानी का गौतम नगर थाना मे एक परिवार महिला की गुमशुदगी दर्ज कराने पहुंचा। जैसा कि अमूमन पुलिस हर गुमशुदगी में जांच के लिए ब्योरा लिखती है वैसी जानकारी पर्चे में उतार ली गई। जांच को सामान्य मानते हुए एक कांस्टेबल को जांच दे दी गई। लेकिन, जांच का दायरा आगे बढ़ा तो कांस्टेबल के भी हाथ-पैर फूल गए।
दरअसल, महिला की जांच में कांस्टेबल को मालूम हुआ कि महिला गुम नहीं हुई बल्कि उसे बेचा गया है। यह मामला भोपाल ही नहीं राजस्थान तक फैला हुआ है। कांस्टेबल ने यह बात अपने टीआई मुख्तार कुरैशी को बताई।
टीआई ने जब इस पूरे गिरोह का आॅपरेशन किया तो उन्हें भी सीआईडी की मदद लेनी पड़ी। गिरोह बेनकाब हुआ तो एक-एक करके छह आरोपी सीखचों के पीछे चले गए। पुलिस को अभी भी इस गिरोह के मास्टरमाइंड की तलाश है।

थाने में 30 जनवरी को एक परिवार पहुंचा। उसने बताया कि उसके घर की एक महिला जिसकी उम्र 28 साल है, वह गायब है। परिवार ने उस महिला से मुलाकात करने वालों का ब्योरा मांगा। ब्यौरे के अनुसार महिलाओं की तस्दीक की गई। महिलाएं उस दिन तो नहीं मिली। लेकिन, जब वे मिली तो जांच गुमशुदगी की बजाए राज्य स्तर पर फैले मानव तस्करी से तार जुड़ गए।
दरअसल, परिवार के बताए अनुसार जिन महिलाओं के बयान दर्ज किए गए वे विरोधाभासी थे। पुलिस को यह तस्दीक करना था। इसलिए गुम महिला के मोबाइल कॉल की लोकेशन ली गई। इस लोकेशन के आस-पास संदेही महिलाओं की भी लोकेशन पाई गई। पुलिस का शक यही से यकीन में बदलने लगा।
जिन महिलाओं से वे पूछताछ कर रहे हैं वे किसी गहरी साजिश के राज को जानती हैं। उनसे पुलिस ने मनोवैज्ञानिक तकनीक अपनाई। इसमें एक महिला टूट गई और उसने जो कहानी बयां की उसे सुनने के बाद पुलिस के पैरो तले जमीन खिसक गई। अब पुलिस को गायब महिला की सकुशल बरामदगी के लिए जतन करना था।


राजगढ़ में बैठा था मास्टर माइंड

इस गिरोह का मास्टर माइंड सुनील नाम का युवक था। सुनील मूलतः इंदौर का रहने वाला था। फिलहाल वह राजगढ़ में डेरा जमाए हुए था। सुनील का रिकाॅर्ड खंगाला गया तो पता चला कि वह मानव तस्करी के मामले में पहले गिरफ्तार हो चुका है। वह एक बार जिलाबदर किया गया था। उस दौरान वह भोपाल के छोला मंदिर इलाके में चोरी-छुपे पनाह लिए हुए था। इसी दौरान उसने अपने पुराने काम को नहीं छोड़ा और यहां भी नेटवर्क बनाने लगा। उसने अपने नेटवर्क में महिलाओं को भी शामिल कर लिया। यह वही महिलाएं थी जो गुम 28 साल की युवती को झांसा देकर ले गई थी। महिलाओं ने खुलासा किया कि महिला को सुनील ने महज 50 हजार रुपए में खरीद लिया था।

नौकरी दिलाने का झांसा

पुलिस ने पूरी तरह से जांच करने के बाद गवाह और सबूत मिलने के बाद आशा उईके, काजल उर्फ रानू, अफरोज, पवन सोनकर, निर्मल सक्सेना, मुकेश को गिरफ्तार किया। यह सभी आरोपी गौतम नगर और छोला मंदिर थाना क्षेत्र के रहने वाले थे। आशा और काजल से गुम महिला की पहचान हुई थी। गुम महिला रोजगार को लेकर परेशान चल रही थी। आशा और काजल ने बताया था कि वे मैरिज ब्यूरो के लिए काम करती हैं। जिसके बदले में उन्हें 50 हजार रूपए तक का कमीशन मिल जाता है। इसी कमीशन के लालच में गुम महिला भी आ गई। उसने आशा और काजल पर परिवार से ज्यादा भरोसा कर लिया।

राजस्थान में ले जाकर बेचा

गुम महिला साजिश से बेखबर थी। वह आशा और काजल के कहने पर आ गई। एक दिन उसे काजल के घर बुलाया गया। यहां से उसे रेलवे स्टेशन ले जाया गया। लेकिन, ट्रेन छूटने का झांसा देकर आरोपी उसे ओला कैब में राजगढ़ ले गए। यहां आरोपियों ने गुम महिला को सुनील को सौंप दिया। बदले में आशा, काजल समेत अन्य आरोपियों को 50 हजार रुपए दिए गए। आरोपियों ने गुम महिला को बाॅस से मुलाकात कराने का झांसा देकर सुनील को उसे सौंप दिया। सुनील उसे बेचने के लिए अपने साथ युवती को राजस्थान ले गया।

ये भी पढ़ें- जेएनयू शिक्षक संघ ने अध्यक्षों, डीन को हटाए जाने की निंदा की

तीन थानों की पुलिस को तलाश

इस गिरोह के पर्दाफाश होने के बाद सुनील भूमिगत हो गया। लेकिन, संभावित ठिकानों पर दबिश देकर गुम महिला को पुलिस ने ढूंढ निकाला। महिला इस पूरी घटना से इस कदर सदमें में आई कि उसने भोपाल शहर ही छोड़ दिया। अब वह ग्वालियर में परिवार के साथ रहती है। पुलिस को यकीन है कि सुनील के पास मानव तस्करी से जुड़े कई राज मालूम है। उन्हें पता लगाने के लिए सुनील की सरगर्मी से तलाश की जा रही है। यह तलाश गौतम नगर थाना पुलिस के अलावा मिसरोद और लटेरी थाना पुलिस को भी है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story