Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

खास खबर : आईएएस के नाम पर फर्जी विज्ञापन, दो युवतियों को नौकरी का झांसा देकर ठगे 12 लाख

मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ऑटोनोमस बॉडी सीडीएस बताकर रिटायर आईएएस के नाम पर ठगी करने वाले एक दंपत्ति ने भोपाल की दो युवतियों को ठगा है। आजकल ये ठग पति-पत्नी राज्य सायबर पुलिस की गिरफ्त में हैं।

खास खबर : आईएएस के नाम पर फर्जी विज्ञापन, दो युवतियों को नौकरी का झांसा देकर ठगे 12 लाख
X

विनोद त्रिपाठी/ भोपाल। मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ऑटोनोमस बॉडी सीडीएस बताकर रिटायर आईएएस के नाम पर ठगी करने वाले एक दंपत्ति ने भोपाल की दो युवतियों को ठगा है। आजकल ये ठग पति-पत्नी राज्य सायबर पुलिस की गिरफ्त में हैं। जबकि दोनों युवतियां जॉब के लिए संघर्ष कर रही हैं। दोनों युवतियों से इस ठग दंपत्ति ने छह-छह लाख रुपए स्वास्थ्य विभाग में सरकारी नौकरी लगवाने के नाम पर ठगे हैं। युवतियां अपना नाम चर्चित होने और परिजन की साख प्रभावित होने के डर से चुप रहीं, लेकिन अब ये ठग पति-पत्नी गिरफ्तार हो गए हैं तो दोनों युवतियों को अपने 12 लाख रुपए (दोनों के 6-6 लाख) वापस मिलने की उम्मीद बंधी है। इसलिए वे अपने साथ घटित आर्थिक अपराध को लेकर सायबर पुलिस थाने में ठग दंपत्ति के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने जा रही हैं।

याद रहे, इसी 25 अगस्त को राज्य सायबर पुलिस की एसआईटी इस ठग दंपत्ति सोहेल अहमद पिता स्वर्गीय अफजल अहमद निवासी लखनऊ, दिल्ली, हाल मुकाम मुंबई समेत इस ठगी में शामिल उसकी पत्नी जाहिरा रफीक पति सोहेल अहमद निवासी मुंबई, झांसी, दिल्ली को मुंबई से गिरफ्तार करके लाई थी। सायबर के स्पेशल डीजी पुरुषोत्तम शर्मा के मुताबिक इस ठग दंपत्ति ने मध्यप्रदेश समेत देश के एक दर्जन से अधिक बेरोजगार युवक-युवतियों से एक करोड़ रुपए से अधिक की ठगी की है। इंदौर के एक युवक से 17 लाख रुपए ठगे हैं। इस क्रम में सायबर पुलिस लगातार पीडि़तों को खोज रही है, ताकि अपराधी दंपत्ति के खिलाफ केस मजबूत हो सके।

हरिभूमि ने तलाश कीं दो युवतियां :

मास्टर माइंड अपराधी सुहेल और उसकी पत्नी की ठगी का शिकार दो पीडि़त युवतियां बुधवार को हरिभूमि ने खोज लीं। ये हैं हाथरस निवासी पूजा और उसकी सहेली सीतापुर लखनऊ निवासी रागिनी, जो झांसी में रहती है। दोनों को इस ठग दंपत्ति ने भोपाल में स्वास्थ्य विभाग में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगा। यह ठगी वर्ष 2013 से लेकर 2014 के बीच छह महीने के भीतर की गई। जिसमें दोनों से 6-6 लाख रुपया ठगा गया।

इस तरह दिया झांसा :

पूजा और रागिनी ने हरिभूमि से बातचीत में ठगी को उजागर किया कि वर्ष 2013 में ट्रेन यात्रा के दौरान रागिनी को ठग सुहेल की पत्नी मिली थी। तब रागनी झांसी जा रही थी। चर्चा के बीच रागिनी से उस महिला ने पूछा कि वह किस जॉब में है। रागिनी ने कहा कि वह जॉब सर्च कर रही है। तब सुहेल की पत्नी ने कहा कि उसके पति एक एनजीओ चलाते हैं, उनकी पहुंची मिनिस्ट्री में है। वे मानव संसाधन विकास मंत्रालय में पकड़ रखते हैं, उसकी नौकरी स्वास्थ्य विभाग में मध्यप्रदेश में ही भोपाल में लगवा देंगे। तब रागिनी उसकी बातों में आ गई।

एक से दो सहेलियां आईं झांसे में :

केस रोचक और गंभीर अपराध का बनता गया कि सुहेल की पत्नी ने रागिनी से उसका मोबाइल नंबर लिया। फिर मुंबई पहुंचकर सुहेल से रागिनी को ई-मेल कराया। जिसमें एक फॉर्म भेजा। रागिनी ने अपनी सहेली पूजा को भी नौकरी के लिए राजी कर लिया। उसका भी फॉर्म भरा गया। इसके बाद शुरू हुआ ठगी का सिलसिला।

मिनिस्ट्री ऑफ हेल्थ के ज्वाइंट सेक्रेटी के फर्जी आदेश से नौकरी :

गंभीर तथ्य है कि ठग सुहेल ने जो नियुक्ति आदेश दोनों युवतियों को दिए, उनमें हस्ताक्षर अभिनव कुमार रायजादा, ज्वाइंट सेक्रेटरी टू द गवर्नमेंट ऑफ इंडिया मिनिस्ट्री ऑफ हेल्थ एंड फेमिली वेलफेयर के नाम से किए गए।

कुछ यूं की गई दोनों युवतियों से ठगी :

- फॉर्म भरवाकर ठग सुहेल ने रागिनी और पूजा को झांसा दिया कि उनकी सरकारी नौकरी भोपाल स्वास्थ्य विभाग में लग गई है। जिसके लिए खर्च के नाम पर रुपए अकाउंट में मंगाए।

- दोनों युवतियों का नौकरी का आदेश फर्जी भेजा गया। जिस पर दस्तखत भी फर्जी किए गए। युवतियों से कहा गया कि वे इसकी सूचना वल्लभ भवन भोपाल में दे दें।

- दोनों युवतियों ने इसकी सूचना वल्लभ भवन में दी। जहां उन्हें एक मैडम को यह दस्तावेज देना कहा गया। इसके अलावा उन्हें झांसा दिया गया कि उनके लिए बंगले चार इमली में अलॉट हुए हैं।

- इस सब ठगी के बीच दोनों युवतियों से छह-छह लाख रुपए ठगे गए। पैसा हर बार टुकड़ों में लिया गया। जो सरकारी नौकरी लगवाने में खर्च व रिश्वत अलग-अलग स्तर पर देने के नाम से मांगा गया। पैसा अकाउंट में मंगाया।

हम एफआईआर दर्ज करेंगे : एसपी सायबर

- जो दो युवतियों से ठगी का मामला बताया जा रहा है, उसमें हम दोनों की ओर से ठग सुहेल व उसकी पत्नी के खिलाफ एफआईआर दर्ज करेंगे। उसके बाद अन्य आवश्यक कार्रवाई की जाएगी। -जितेंद्र सिंह, एसपी सायबर इंदौर (इस केस के हैंडलर)

पीडि़तों का पैसा वापस कराएंगे : स्पेशल डीजी

- शातिर ठग सुहेल व उसकी पत्नी के खिलाफ केस दर्ज होने के बाद इस मामले में पीडि़त युवतियों का पैसा वापस कराया जाएगा। इसके लिए सुहेल का मकान-गाड़ी आदि सब जब्त किया जाएगा। - पुरुषोत्तम शर्मा, स्पेशल डीजी सायबर पुलिस मध्यप्रदेश

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story