Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बरखा के मोबाइल में मिले ये सबूत, पुलिस भी हैरान, डाटा के आधार पर पुलिस देगी दबिश

पांचों गिरफ्तार महिलाओं से शुक्रवार तक की कड़ाई से हुई पूछताछ व संयुक्त रूप से पुलिस व एजेंसियों द्वारा की जा रही जांच में जो निकलकर आया है, उसमें स्पष्ट हुआ है कि ये महिलाएं हनी ट्रेपिंग के कॉल गर्ल्स का इस्तेमाल करती थीं।

बरखा के मोबाइल में मिले ये सबूत, पुलिस भी हैरान, डाटा के आधार पर पुलिस देगी दबिश
X

भोपाल। प्रदेश के अब तक के सबसे बड़े हनी ट्रेप कांड (Honey Trap Case) में खुलासे पर खुलासे हो रहे हैं। पांचों गिरफ्तार महिलाओं से शुक्रवार तक की कड़ाई से हुई पूछताछ व संयुक्त रूप से पुलिस व एजेंसियों द्वारा की जा रही जांच में जो निकलकर आया है, उसमें स्पष्ट हुआ है कि ये महिलाएं हनी ट्रेपिंग के कॉल गर्ल्स (Call Girl's) का इस्तेमाल करती थीं। 40 कॉल गर्ल्स (Call Girl's) के मोबाइल नंबर इनके पास से मिले हैं। साथ ही अति खूबसूरत कॉल गर्ल्स के पॉर्न वीडियो इनके मोबाइल्स व इलेक्ट्रॉनिक गेजेट्स में पाए गए हैं। जिसकी छानबीन इंदौर पुलिस समेत एटीएस, आईबी, क्राइम ब्रांच कर रही है। अकेली बरखा (Barkha) के मोबाइल में 900 पॉर्न वीडियो (Porn video) बताए जाते हैं। जबकि इन पांचों के पास से जब्त मोबाइल व गेजेट्स में कुल जमा 1000 से अधिक पॉर्न वीडियो (Porn video) हैं। जिनमें कॉल गर्ल्स समेत ये खुद भी दिखाई देती बताई जाती हैं। इस मामले में इंदौर एसएसपी रुचि वर्धन मिश्रा ने शुक्रवार की देर शाम हरिभूमि से चर्चा में स्पष्ट किया है कि वीडियोज मिले हैं। कॉन्टेक्ट्स मिले हैं, उनमें क्या है यह जांच पूरी होने पर ही बताया जाएगा।

किसका क्या काम था

- पकड़ी गईं दोनों श्वेता जैन (Shweta Jain) मंत्रालय यानी वल्लभ भवन में आती जाती थीं। वे आईएएस अफसरों को अपनक मोहपाश में लेती थी।

- इन दोनों श्वेता (Shweta) का अधिकारियों को फांसने का सबसे बड़ा हथियार इनका एनजीओ था।

- तीसरी महिला आरती दयाल छोटे अधिकारियों और बड़े नेताओं के बीच में सक्रिय रहती थी।

- चौथी बरखा भटनागर सोनी की पहुंच राजनीतिक गलियारों में थी, वह पॉर्न वीडियो ज्यादा बनाती थी।

तीन गईं जेल, दो महिलाएं व ड्राइवर रिमांड पर

- दोनों श्वेता जैन व बरखा का एक दिन का ही पीआर यानी पुलिस रिमांड मिला था। जिन्हें शुक्रवार को इंदौर कोर्ट में पेश किया गया, जहां से ये जेल भेज दी गईं।

- मोनिया यादव व आरती दयाल समेत ड्राइवर का तीन दिन का पुलिस रिमांड होने से उन्हें शुक्रवार को अदालत में पेश नहीं किया गया। उनसे इंदौर में पूछताछ हो रही है।

क्या कहती हैं इंदौर एसएसपी

जहां से ये केस शुरू हुआ था, वहां इंदौर कीं एसएसपी रुचि वर्धन मिश्रा ने हरिभूमि को बताया कि पूछताछ में बहुत कुछ सामने आया है। इनके कॉन्टेक्ट्स नंबर्स मिले हैं। वीडियोज मिले हैं। ज्यादातर बरामदगी हो गई है। जहां तक अफसरों या नेताओं से संपर्क-संबंध का सवाल है तो इस मामले में फिलहाल कुछ नहीं कहा जा सकता, क्योंकि जांच अभी चल रही है। तीन आरोपी जेल चली गईं। बाकी दो समेत ड्राइवर से कड़ाई से पूछताछ की जा रही है। जो कॉन्टेक्स मिले हैं वे कॉल गर्ल्स के हैं क्या ? इस पर एसएसपी ने कहा कि नंबर मिले हैं, उन्हें परखा जा रहा है। मोबाइल्स व इलेक्ट्रॉनिक गेजेट्स को खंगाला जा रहा है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story