Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

किसानों की कर्जमाफी वाले बयान पर ज्योतिरादित्य को मुख्यमंत्री कमलनाथ का करारा जवाब, जानिए क्या कहा

कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया द्वारा किसानों की कर्ज माफी को लेकर लगाए आरोपों पर सफाई देते हुए शनिवार को मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा, सिंधिया सच बोल रहे हैं।

किसानों की कर्जमाफी वाले बयान पर ज्योतिरादित्य को मुख्यमंत्री कमलनाथ का करारा जवाब, जानिए क्या कहा

भोपाल। कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया द्वारा किसानों की कर्ज माफी को लेकर लगाए आरोपों पर सफाई देते हुए शनिवार को मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा, सिंधिया सच बोल रहे हैं। हमने कहा था कि पहली किस्‍त में केवल 50 हजार रुपये तक का ही किसानों का कर्ज माफ हुआ है। उन्‍होंने कहा, हमने पहले चरण में 50 हजार तक का कर्ज माफ किया है। इसके बाद अगले चरण में हम दो लाख तक का कर्ज माफ करेंगे। मेरा मानना ​​है कि जनता अपने नेता पर भरोसा करती है।

बता दें शुक्रवार को भिंड में एक रैली के दौरान ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि अभी सभी किसानों की कर्जमाफी नहीं की गई है। सिर्फ 50 हजार रुपये का कर्ज माफ किया गया, जबकि हमने 2 लाख रुपये तक का कर्ज माफ करने का वादा किया था। 2 लाख रुपए तक के किसान कर्ज को माफ किया जाना चाहिए। सिंधिया के इस बयान के बाद जहां मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने उनका समर्थन किया। वहीं मंत्री सज्जन सिंह वर्मा खुलकर सरकार के समर्थन में आ गए।

मंत्री सज्जन सिंह ने भी किया था पलटवार

इससे पहले राज्य के मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने सिंधिया के बयान पर पलटवार करते हुए कहा था कि सिंधिया को अपने क्षेत्र के किसानों की ज्यादा चिंता है, तभी वो इस तरह की बात कर रहे हैं। अभी विपक्ष के पास कोई मुद्दा नहीं है तो महाराज उन्हें मुद्दा दे रहे हैं। सज्जन यहीं नहीं रुके, उन्होंने कहा कि कमलनाथ मां के पेट से सीख कर आए हैं कि चक्रव्यूह कैसे भेदना है। कमलनाथ आधुनिक युग के अभिमन्यु हैं, उन्हें हर चक्रव्यूह से निकलना आता है।

दरअसल, कांग्रेस ने मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले अपने वचनपत्र में किसानों का दो लाख रुपये तक का कर्ज माफ करने का वादा किया था। कमलनाथ ने राज्य के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते ही एक घंटे के भीतर किसान कर्जमाफी के आदेश पर हस्ताक्षर किए थे। इस योजना की प्रक्रिया शुरू हुई और किसानों से तीन रंग के अलग-अलग फॉर्म भरवाए गए। उस वक्त सरकार ने 55 लाख किसानों का कर्ज माफ करने का वादा किया था।

Next Story
Share it
Top