Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

यूपी में 103 किलोमीटर चली पैसेंजर ट्रेन... इस दौरान 25 स्टेशनों पर रूकी, नहीं मिला एक भी यात्री

103 किलोमीटर लंबे रूट पर एक भी यात्री के न मिलने से आला अधिकारी भी हैरान हैं। रूट पर टिकट चेकिंग अभियानाें की भी समीक्षा की जा रही है।

Varanasi Railway division created a record empty Train run from Thawe to Chhapra Kachari without a single passenger
X

थावे जंक्शन से छपरा कचहरी के बीच 103 किलोमीटर रूट पर अनारक्षित पैसेंजर ट्रेन को एक भी यात्री नहीं मिला। 

उत्तर प्रदेश के वाराणसी मंडल के अंतर्गत थावे जंक्शन से छपरा कचहरी के बीच चलाई गई पैसेंजर ट्रेन ने एक अलग ही रिकॉर्ड कायम कर दिया है। इस ट्रेन ने अपना 103 किलोमीटर का सफर बिना यात्रियों के पूरा किया। सुनने में अटपटा लगेगा, लेकिन हकीकत यह है कि अपने यात्रा मार्ग पर पड़ने वाले 25 स्टेशनों पर रुकने के बावजूद इस ट्रेन को एक भी यात्री नहीं मिल पाया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक रेलवे ने थावे जंक्शन से छपरा कचहरी के बीच आठ मार्च से अनारक्षित पैसेंजर ट्रेन शुरू की है। इस ट्रेन को यात्रियों का रिस्पांस बिल्कुल भी नहीं मिल रहा। 21 मार्च को तो इस ट्रेन को एक भी यात्री नहीं मिला। सामान्य श्रेणी की दस बोगियां खाली गईं। इस बात का खुलासा उस वक्त हुआ, जब रेलवे ने ट्रेनों में सफर करने वाले यात्रियों की संख्या जानने के लिए मंडलवार रिपोर्ट मांगी।

वाराणसी मंडल ने थावे-छपरा कचहरी अनारक्षित एक्सप्रेस की यात्री संख्या 21 मार्च की तारीख में शून्य दिखाई। इसका मतलब कि 21 मार्च को इस ट्रेन को 103 किलोमीटर के अपने निर्धारित रूट पर 25 स्टेशन पर ठहरने के बावजूद एक भी यात्री नहीं मिला। रिपोर्ट में इस ट्रेन में कुल सीटों की संख्या 772 बताई गई। इसी प्रकार जौनपुर से औड़िहार जाने वाली ट्रेन को भी 21 मार्च के दिन 740 सीटों के मुकाबले महज 15 यात्री मिले।

चेकिंग बढ़ाने की जरूरत

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो आला अधिकारी इस रूट पर टिकट चेकिंग अभियान की समीक्षा कर रहे हैं। बहरहाल कारण कुछ भी रहे, लेकिन कागजों में तो वाराणसी मंडल के नाम यह रिकॉर्ड दर्ज हो ही गया है।

Next Story