Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बसपा सुप्रीमो मायावती ने की योगी की सराहना, कहा उत्पीड़न के खिलाफ एक्शन लेने में देर आए पर दुरुस्त आए

बसपा (BSP) सुप्रीमो मायावती ने योगी सरकार की तारीफ की और कहा कि उत्पीड़न करने वालों के खिलाफ देर से कार्रवाई हुई लेकिन सही कार्रवाई हुई।

बसपा सुप्रीमो मायावती ने की योगी की सराहना, कहा उत्पीड़न के खिलाफ एक्शन लेने में देर आए पर दुरुस्त आए
X

उत्तर प्रदेश की पूर्व सीएम और बसपा (BSP) सुप्रीमो मायावती जो अक्सर अपनी तीखी बयान से विपक्ष पर हमला करने के लिए सुखिर्यों में छाई रहती है, उसने पहली बार अपनी विपक्ष सरकार योगी (Yogi Adityanath) की तारीफ की है।

मायावती ने ट्वीट कर कहा कि अगर किसी भी बहन-बेटी के साथ छेड़छाड़ होती है तो आरोपियों के खिलाफ तुरंत कार्रवाई होनी चाहिए। आरोपी भले ही कितना ताकतवर हो, किसी नेता के आदमी हो, किसी भी धर्म या जाति से जुड़े हो, सभी दोषी के खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।

उन्होंने आगे लिखा कि कुछ दिनों पहले आजमगढ़ (Azamgarh Case) में हुए किशोरी के साथ छेड़छाड़ और दलित बस्तियों पर हमले के खिलाफ तुरंत एक्शन लिया गया। योगी सरकार भले ही देर से आए पर दुरुस्त आए। यह अच्छी बात है।

किसी भी घटना के खिलाफ खासकर बहन-बेटियों के मामलों में आरोपियों पर तुरंत कार्रवाई को इसी तरह आगे भी निरंतर जारी रखना होगा। बसपा का यही कहना है और सलाह भी है। हालांकि इससे पहले दलितों के हमले में आइपीएस बृजलाल ने बसपा प्रमुख मायावती और भीम आर्मी प्रमुख चन्द्रशेखर पर सवाल उठाए थे।

उन्होंने ट्विटर कर कहा कि सुश्री मायावती जी, आपने सियासी मंच पर दशकों खुद को दलित की बेटी कह कर सत्ता का मजा लिया है। आज आजमगढ़ की दलित बेटियां आपको पुकार रही हैं और आप है कि चुप्पी साधी हुई है।

गेस्ट हाउस कांड की पीड़ा से कम, यह दर्द नहीं है बहन जी। बहन जी संबोधन की ही लाज रखते हुए चंद अल्फाज बोल दीजिए।

जानें क्या था पूरा मामला

जानकारी के लिए आपको बता दें कि बुधवार को सिंकदरपुर के आइमा गांव में वर्ग विशेष के युवक ने एक किशोरी के साथ छेड़छाड़ की थी। किशोरी ने इसका विरोध किया तो युवक अपनी गलती को मानने के बजाय अपने टीम को बुला लिया।

इसके बाद युवक समेत टीम के लोगों ने दलित बस्ती पर तोड़फोड़ करना शुरू कर दिया। इतना ही नहीं, हमले को रोकने के लिए सामने आए लोगों पर हथियार से हमला कर दिया। इससे करीब 12 लोग घायल हो गए। इस पूरी घटना के खिलाफ पीड़ितों ने थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई।

पुलिस ने बयान के तहत आरोपी परवेज, फैजान, नूर आलम, सदरे आलम, आरिफ, आशीफ, अल्तमश, सुहेल समेत 10 अन्य लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया। फिलहाल पुलिस ने 12 लोगों को गिरफ्तार किया है। इन सभी पर एनएसए व गैंगस्टर एक्ट लगाया गया है।बाकी फरार आरोपियों की तलाशी की जा रही है।

और पढ़ें
Priyanka Kumari

Priyanka Kumari

Jr. Sub Editor


Next Story