Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

वाराणसी में स्टूडेंट्स ने बीएचयू को गंगाजल से किया पवित्र, अब सिर भी मुंडवा रहे, कुलपति पर लगे यह आरोप?

वाराणसी में काशी हिंदू विश्वविद्यालय में कुलपति के इफ्तार पार्टी में शामिल होने पर तीन दिन से विवाद चल रहा है। छात्रों की मांग है कि जब तक कुलपति को हटाया नहीं जाएगा, तब तक विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा। जानिये विवि प्रबंधन ने क्या कहा?

वाराणसी में स्टूडेंट्स ने बीएचयू को गंगाजल से किया पवित्र, अब सिर भी मुंडवा रहे, कुलपति पर लगे यह आरोप?
X

बीएचयू में स्टूडेंटस अपना सिर मुंडवा रहे। 

वाराणसी (Varanasi) में काशी हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) में कुलपति आवास (Vice Chancellor's Residence) पर इफ्तार पार्टी (Iftar Party) होने का विवाद तीन दिन बाद भी शांत नहीं हुआ है। छात्रों ने जहां कुलपति का पुतला फूंका और हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) का पाठ किया, वहीं अब कुलपति आवास को गंगाजल (Gangajal) से पवित्र करने के बाद छात्र अब सिर मुंडवा (Shaving Head) रहे हैं ताकि कुलपति के खिलाफ सख्त कार्रवाई हो सके।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक काशी हिंदू विश्वविद्यालय के कुलपति 27 अप्रैल को महिला विश्वविद्यालय में आयोजित इफ्तार पार्टी में शामिल हुए थे। यह जानकारी मिलने के बाद से कई छात्र विरोध में उतर आए। छात्रों का आरोप था कि बीएचयू में कभी इफ्तार पार्टी नहीं हुई है। उन्होंने आरोप लगाया था कि कुलपति यूनिवर्सिटी में माहौल खराब करना चाहते हैं।

छात्रों ने 28 अप्रैल को कुलपति आवास के बाहर प्रदर्शन किया और कुलपति का पुतला फूंककर नारेबाजी की। छात्रों की मांग थी कि कुलपति को तुरंत हटाना चाहिए। विश्वविद्यालय प्रबंधन की ओर से भी स्पष्टीकरण दिया गया था कि यह मामला आपसी सौहार्द बनाना था, लेकिन छात्र इस मांग पर अड़े हैं कि कुलपति को हटाया जाना चाहिए।

छात्र लगातार अलग-अलग तरीके से अपना विरोध दिखा रहे हैं। पहले जहां कैंपस को कुलपति हटाओ के पोस्टर लगाए गए तो वहीं गंगाजल का छिड़काव करके कुलपति आवास को पवित्र किया। हनुमान चालीसा का पाठ किया। अब छात्र अपना सिर मुंडवा रहे हैं ताकि उनकी मांग पूरी हो सके। छात्रों का कहना है कि जब तक उनकी मांग पूरी नहीं होगी, उनका प्रदर्शन जारी रहेगा।

और पढ़ें
Next Story