Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अयोध्या राम मंदिर के लिए समर्पण निधि अभियान आज समाप्त, अब इस तरह दे सकते हैं दान

विश्व हिंदू परिषद की ओर से 15 जनवरी को मकर संक्रांति पर राम मंदिर निधि समर्पण अभियान की शुरुआत की गई थी। इस अभियान में हर आयु वर्ग, धर्म और संप्रदाय के लोगों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। अभियान के तहत करीब दो हजार करोड़ रुपये की समर्पण निधि एकत्रित होने का अनुमान है। वास्तविक आंकड़ा मार्च अंत तक सामने आएगा।

अयोध्या राम मंदिर के लिए समर्पण निधि अभियान आज समाप्त, अब इस तरह दे सकते हैं दान
X

प्रतीकात्मक तस्वीर।

अयोध्या में बन रहे भव्य राम मंदिर के निर्माण के लिए चलाए जा रहे राम मंदिर निधि समर्पण अभियान का आज आखिरी दिन है। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय शाम को लखनऊ में इस अभियान की समाप्ति की घोषणा करेंगे। विश्व हिंदू परिषद की ओर से 15 जनवरी से शुरू किए गए इस अभियान के तहत राम मंदिर निर्माण के लिए कितनी राशि एकत्रित हुई, इसका वास्तविक आंकड़ा आने में समय लगेगा। हालांकि अनुमान लगाया जा रहा है कि यह राशि 2000 करोड़ के आसपास हो सकती है।

विश्व हिंदू परिषद की ओर से 15 जनवरी को मकर संक्रांति पर राम मंदिर निधि समर्पण अभियान की शुरुआत की गई थी। इस अभियान में हर आयु वर्ग, धर्म और संप्रदाय के लोगों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। हालांकि विपक्षी दलों ने इस अभियान पर सवाल भी उठाए। विशेषकर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के उस बयान पर खासा बवाल मचा था, जिसमें उन्होंने राम मंदिर के लिए चंदा इकट्ठा करने वालों को चंदाजीवी बताया था।

राम मंदिर निधि समर्पण अभियान तमाम सवाल उठाए जाने के बाद भी निरंतर चलता रहा। लोगों ने दिल खोलकर दान किया। लोगों के उत्साह का अंदाजा यहां से लगाया जा सकता है कि कई राज्यों में तो दान राशि के कूपन ही समाप्त हो गए। ऐसे में कूपन को दोबारा छपवाकर भेजा गया। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो समर्पण निधि अभियान समाप्त होने के बाद भी जो लोग राम मंदिर निर्माण के लिए सहयोग राशि देना चाहते हैं, वे दे सकते हैं।

विहिप ने अपील की है कि राम मंदिर निर्माण के लिए दान के इच्छुक लोग स्थानीय कार्यालय अथवा पदाधिकारियों से संपर्क कर सकते हैं, लेकिन योगदान राशि की रसीद या कूपन अवश्य प्राप्त कर लें। श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सदस्य डॉक्टर अनिल मिश्र ने मीडिया को बताया कि इस अभियान में डेढ़ लाख टीमों ने हिस्सा लिया। अभियान के तहत जमा हुई राशि को बैंकों में जमा कराया जा रहा है। पूरा लेखा जोखा तैयार कर जनता के समक्ष रखा जाएगा।

Next Story