Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सीएम गहलोत ने दिए निर्देश- CHC-PHC के लिए लें एक हजार डॉक्टरों और 25 हजार नर्सिंगकर्मियों की सेवाएं

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने एक और अहम निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि गांवों में संक्रमण के तेजी से प्रसार को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार उपचार की पुख्ता व्यवस्थाएं सुनिश्चित कर रही है।

सीएम गहलोत ने दिए निर्देश- CHC-PHC के लिए लें एक हजार डॉक्टरों और 25 हजार नर्सिंगकर्मियों की सेवाएं
X

अशोक गहलोत

जयपुर। राजस्थान में कोरोना वायरस का प्रकोप अभी थमने का नाम नहीं ले रहा है। प्रदेश में इस घातक बीमारी को लेकर स्थिति अभी भी चिंताजनक बनी हुई है। ऐसे में प्रदेश सरकार इस बीमारी पर अंकुश लगाने की हर मुमकिन कोशिशों में लगी हुई है। हालांकि अभी भी प्रदेश में पाबंदियां लगाई हुई हैं बावजूद इसके बीमारी का प्रकोप जारी है। ऐसे में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने एक और अहम निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि गांवों में संक्रमण के तेजी से प्रसार को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार उपचार की पुख्ता व्यवस्थाएं सुनिश्चित कर रही है। उन्होंने निर्देश दिए कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (CHC) एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (PHC) तक कोविड उपचार की माकूल व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए 25 हजार नर्सिंगकर्मियों तथा एक हजार चिकित्सा अधिकारियों की अस्थायी आधार पर तत्काल सेवाएं ली जाएं।

कोविड मरीजों को स्थानीय स्तर पर ही मिल सकेगी ऑक्सीजन की सुविधा

मुख्यमंत्री ने आगामी आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए ब्लाक स्तर पर कोविड-19 परामर्श एवं कोविड-19 मरीज देखभाल केंद्र के रूप में विकसित सीएचसी में आईसीयू (ICU) एवं हाई फ्लो ऑक्सीजन (High Flow Oxygen) के 10 बिस्तर के साथ ही इनमें शिशु गहन चिकित्सा इकाई की भी व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं। गहलोत कोविड संक्रमण, लाकडॉउन तथा संसाधनों की उपलब्धता सहित अन्य संबंधित विषयों पर उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कोविड-19 रोगियों को स्थानीय स्तर पर ही ऑक्सीजन की सुविधा मिल सके इसके लिए प्रत्येक पीएचसी पर पांच तथा सीएचसी पर 10 आक्सीजन सांद्रक उपलब्ध कराए जाएं।

ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर बनाने पर देंगे जोर

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारा पूरा जोर इस बात पर होना चाहिए कि कैसे हम ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधाओं को और बेहतर करें। उन्होंने कोविड-19 रोगियों में ब्लैक फंगस के मामले सामने आने पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि विशेषज्ञ चिकित्सकों के समूह द्वारा इसका विशेष अध्ययन करवाया जाए। उन्होंने ब्लैक फंगस बीमारी के पैकेज को भी मुख्यमंत्री चिरंजीवी बीमा योजना में शामिल करने के निर्देश दिए।

Next Story