Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

राजस्थान के स्कूलों में लौटी बच्चों की रौनक- लगभग दस महीने बाद आज से खुले स्कूल, इन बातों का रखना होगा ख्याल

राज्य में कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से गत दस महीने से बंद स्कूल आज से दोबारा खुल गए। शुरुआत में नौवीं से लेकर 12वीं तक की कक्षाएं संचालित की जाएगी। राज्य सरकार ने इसके लिए स्कूलों को विस्तृत परिचालन निर्देश (एसओपी) जारी किए हैं जिनमें मास्क लगाना अनिवार्य भी शामिल है।

मणिपुर में 10 महीने बाद फिर से खुले स्कूल और कॉलेज
X

फाइल फोटो

जयपुर। राजस्थान में कोरोना वायरस को लेकर स्थिति में सुधार दर्ज किया जा रहा है। प्रदेश में संक्रमितों की संख्या में भारी गिरावट देखी जा रही है। इसी वजह से सरकार की अब थोड़ी परेशानी कम होती दिख रही है। वहीं राज्य में कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से गत दस महीने से बंद स्कूल आज से दोबारा खुल गए। शुरुआत में नौवीं से लेकर 12वीं तक की कक्षाएं संचालित की जाएगी। राज्य सरकार ने इसके लिए स्कूलों को विस्तृत परिचालन निर्देश (एसओपी) जारी किए हैं जिनमें मास्क लगाना अनिवार्य भी शामिल है।

एक अधिकारी ने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में पांच जनवरी को हुई समीक्षा बैठक में स्कूलों में 9 से 12वीं तक की कक्षाएं, विश्वविद्यालय व महाविद्यालय की अन्तिम वर्ष की कक्षाओं, कोचिंग सेन्टर तथा सरकारी प्रशिक्षण संस्थानों को 18 जनवरी से खोलने का फैसला किया गया था। इसके तहत इन सभी शिक्षण संस्थानों में प्रत्येक कक्षा में कुल क्षमता का 50 प्रतिशत उपस्थिति पहले दिन तथा शेष 50 प्रतिशत उपस्थिति दूसरे दिन रहेगी। शिक्षकों को संक्रमण की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा जरूरी प्रशिक्षण दिया जाएगा।

इन बातों का रखना होगा ध्यान

- विद्यार्थियों, शिक्षकों और स्टाफ को अनिवार्य रूप से मास्क का इस्तेमाल करना होगा।

- साथ ही शिक्षकों की जिम्मेदारी होगी कि वो विद्यार्थियों के समय-समय पर हाथ सेनेटाइज करवाने, साबुन से धुलवाने और सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करवाएं

- सोशल डिस्टेंसिंग की पालना की जिम्मेदारी होगी शिक्षकों की

- विद्यार्थी, शिक्षक, स्टाफ को बार-बार हाथ सेनेटाइज करने होंगे

- विद्यालय आते ही साबुन से हाथ धोना होगा जरूरी

- बीमार विद्यार्थियों को स्कूल आने की नहीं होगी अनुमति

- विद्यार्थियों को अपने नियत स्थान पर ही बैठना होगा अनिवार्य

- भोजन करते समय विद्यार्थी साझा नहीं करेंगे अपना भोजन

- स्कूल में विद्यार्थियों, शिक्षकों, स्टाफ को थूकने पर मनाही

- विद्यालय में प्रवेश और निकासी के दौरान नहीं करनी होगी भीड़

- पुस्तक, नोटबुक, पेन, पेंसिल एक-दूसरे से नहीं करनी होगी साझा

- विद्यार्थी परस्पर खाद्य सामग्री को नहीं कर सकेंगे साझा

- हैंडवॉश और पानी की नियमित व्यवस्था की जिम्मेदारी स्कूल की।

Next Story