Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सतीश पूनिया ने राजस्थान सरकार पर साधा निशाना, बोले- कांग्रेस राज में कहीं भी बहन-बेटी सुरक्षित नहीं

भाजपा नेताओं ने राजस्थान में महिलाओं से दुष्कर्म की हालिया घटनाओं को लेकर कांग्रेस सरकार पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि कांग्रेस राज में अराजकता का माहौल है। भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि कांग्रेस राज में राजस्थान में कहीं भी बहन-बेटी सुरक्षित नहीं हैं।

सतीश पूनियां ने राजस्थान सरकार पर साधा निशाना, बोले- कांग्रेस राज में कहीं भी बहन-बेटी सुरक्षित नहीं
X
सतीश पूनिया

जयपुर। भाजपा नेताओं ने राजस्थान में महिलाओं से दुष्कर्म की हालिया घटनाओं को लेकर कांग्रेस सरकार पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि कांग्रेस राज में अराजकता का माहौल है। भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि कांग्रेस राज में राजस्थान में कहीं भी बहन-बेटी सुरक्षित नहीं हैं। पूनियां ने बांसवाड़ा, भरतपुर व धौलपुर में नाबालिगों से दुष्कर्म की घटनाओं का हवाला देते हुए एक बयान में कहा कि पूरे राज्य में अराजकता का माहौल है, अपराधियों में से कानून का डर खत्म हो गया है।

उन्होंने कहा कि शासन के दंभ में डूबी कांग्रेस सरकार ने दलितों एवं महिलाओं को भगवान भरोसे छोड़ दिया है। प्रदेश में एक भी शहर ऐसा नहीं बचा जहां महिलाओं, छोटी बच्चियों से बलात्कार, उनकी हत्या के जघन्य अपराध नहीं हो रहे हों। आमजन इन हालात में पुलिस थानों के चक्कर लगाने को मजबूर है जबकि महिला आयोग व अनुसूचित जाति आयोग आदि संवैधानिक संस्थाओं में अध्यक्ष एवं सदस्यों के पद रिक्त पड़े हैं।

वहीं, पूर्व मुख्यमंत्री एवं भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष वसुंधरा राजे ने भी इसको लेकर ट्वीट किया। उन्होंने लिखा कि पिछले कुछ समय से राज्य के विभिन्न जिलों से सामने आ रहीं दुष्कर्म की घटनाएँ मानवता को शर्मसार करने वाली हैं। कोरोना संक्रमण के बीच यह शर्मसार करने वाली घटनाएँ सभ्य समाज को चुनौती देती हैं।

राजे ने कहा कि राज्य सरकार को तत्काल प्रभाव से ध्यान देने की जरूरत है और जिन्होंने ऐसे जघन्य कृत्य किए हैं, उन्हें तत्काल सजा मिलनी चाहिए। उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने एक बयान में कहा कि विगत 15 दिन में अजमेर, जयपुर, सीकर, चूरू, सिरोही और बांसवाड़ा समेत कई जगहों पर महिलाओं व बच्चियों के साथ दुष्कर्म की घटनाएं होना इस बात का प्रमाण है कि महिला सुरक्षा को लेकर राज्य सरकार बिल्कुल गंभीर नहीं है।

Next Story