Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मुख्यमंत्री गहलोत ने दी मंजूरी, राजस्थान में सीएचओ के 7810 पदों पर भर्ती जल्द, 1500 पद भी बढ़ाए गए

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के तहत सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी (सीएचओ) की भर्ती प्रक्रिया में 1500 अतिरिक्त पद जोड़ने के प्रस्ताव को स्वीकृति दी है। अब सीएचओ के लिए 6310 पदों के स्थान पर कुल 7810 पदों पर संविदा आधार पर भर्ती होगी।

मुख्यमंत्री गहलोत ने दी मंजूरी, राजस्थान में सीएचओ के 7810 पदों पर भर्ती जल्द, 1500 पद भी बढ़ाए गए
X

राजस्थान में सीएचओ के 7810 पदों पर भर्ती जल्द

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के तहत सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी (सीएचओ) की भर्ती प्रक्रिया में 1500 अतिरिक्त पद जोड़ने के प्रस्ताव को स्वीकृति दी है। अब सीएचओ के लिए 6310 पदों के स्थान पर कुल 7810 पदों पर संविदा आधार पर भर्ती होगी। एक सरकारी बयान के अनुसार, कोरोना वायरस महामारी के दौर में बार-बार परीक्षा करवाना संभव नहीं होने के मद्देनजर सीएचओ की प्रक्रियाधीन भर्ती के लिए पदों की संख्या बढ़ाकर 7810 की गयी है। इससे राज्य में दूर-दराज क्षेत्रों तक स्वास्थ्य केन्द्रों में सीएचओ की सेवाएं जल्द उपलब्ध होंगी। उल्लेखनीय है कि आयुष्मान भारत अभियान के तहत राजस्थान में वर्ष 2022 तक उप-स्वास्थ्य केन्द्र स्तर तक के सभी स्वास्थ्य संस्थानों को 'हेल्थ एण्ड वेलनेस सेंटर' के रूप में क्रियाशील किया जाना है। इसके तहत 6310 पदों पर भर्ती के लिए विज्ञापन 31 अगस्त को जारी किया गया था। उक्त संविदा कार्मिकों को एनएचएम के परियोजना परिपालन योजना (पीआईपी) के प्रावधानों के तहत मानदेय व प्रोत्साहन राशि देय होंगे।

गहलोत बोले- कांग्रेस सरकारों ने उच्च शिक्षा को हमेशा महत्व दिया

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंगलवार को कहा कि कांग्रेस की सरकारों ने उच्च शिक्षा को हमेशा महत्व दिया और देश में आईआईटी, आईआईएम, इसरो जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों की स्थापना जवाहरलाल नेहरू के दृष्टिकोण का ही परिणाम है। मुख्यमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से बांसवाड़ा के गोविन्द गुरु जनजातीय विश्वविद्यालय में परीक्षा व शोध अनुभाग का लोकार्पण किया। उन्होंने कहा कि पंडित जवाहरलाल नेहरू के समय से ही इस देश में विज्ञान, तकनीक और उच्च शिक्षा पर ध्यान दिया गया। इसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए कांग्रेस के शासन में चाहे वो केन्द्र में हो चाहे राज्य में, उच्च शिक्षा का महत्व हमेशा बना रहा है। अगर ये संस्थान उस वक्त नहीं बनते तो हमलोग बहुत पिछड़ जाते। उन्होंने कहा कि अब राजस्थान वह राजस्थान नहीं रहा जहां अकाल व सूखा पड़ता रहता थे, हमने उसका मुकाबला भी किया..आज राजस्थान में आईआईटी, उदयपुर में आईआईएम, जोधपुर में एम्स, नेशनल लॉ विश्वविद्यालय, निफ्ट है और तीन-चार कृषि विश्वविद्यालय बन चुके हैं। गहलोत ने पूर्ववर्ती भाजपा सरकार द्वारा दो विश्वविद्यालयों को बंद किए जाने का आरोप भी लगाया।

Next Story