Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

भ्रष्टाचार मामले में राजस्थान सरकार ने की कड़ी कार्रवाई, गिरफ्तार आईपीएस अधिकारी मनीष अग्रवाल को किया निलंबित

भ्रष्टाचार मामले में राजस्थान सरकार ने कड़ी कार्रवाई करते हुए गिरफ्तार भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के अधिकारी मनीष अग्रवाल को निलंबित कर दिया है। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने अग्रवाल को मंगलवार को रिश्वत के एक मामले में गिरफ्तार किया था।

भ्रष्टाचार मामले में राजस्थान सरकार ने की कड़ी कार्रवाई, गिरफ्तार आईपीएस अधिकारी मनीष अग्रवाल को किया निलंबित
X

 गिरफ्तार आईपीएस अधिकारी मनीष अग्रवाल निलंबित

जयपुर। भ्रष्टाचार मामले में राजस्थान सरकार ने कड़ी कार्रवाई करते हुए गिरफ्तार भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के अधिकारी मनीष अग्रवाल को निलंबित कर दिया है। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने अग्रवाल को मंगलवार को रिश्वत के एक मामले में गिरफ्तार किया था। कार्मिक विभाग की ओर से शुक्रवार को अग्रवाल के निलंबन आदेश जारी किए गए। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (ACB) ने अग्रवाल को दो फरवरी को गिरफ्तार किया था। गिरफ्तारी के बाद 48 घंटे से ज्यादा पुलिस हिरासत में रहने के कारण आईपीएस अग्रवाल को निलंबित किया गया। कार्मिक विभाग ने अग्रवाल को दो फरवरी से ही निलंबित करने के आदेश जारी करते हुए निलंबन काल में उनका मुख्यालय महानिदेशक जयपुर रखा है। अग्रवाल पर आरोप है कि दौसा के पुलिस अधीक्षक के पद रहते हुए उन्होंने एक राजमार्ग निर्माण कंपनी से दलाल के जरिए 38 लाख रूपये मांगे।

निलंबित करने का यह पहला मामला नहीं

आईपीएस मनीष अग्रवाल को सस्पेंड करने का प्रदेश में पहला मामला नहीं है। मनीष अग्रवाल से भी पहले 3 आईपीएस और 3 आईएएस गिरफ्तार हो चुके हैं। जून 2012 में रिश्वत मामले में आईपीएस अजय सिंह को गिरफ्तार किया था। बाद में कोर्ट ने बरी कर दिया। जनवरी 2013 में तत्कालीन अजमेर एसपी राजेश मीणा को गिरफ्तार किया गया था। मई 2014 में कोटा के तत्कालीन एसपी सत्यवीर सिंह को गिरफ्तार किया गया था। सितंबर 2015 में खान घोटाले में आईएएस अशोक सिंघवी को गिरफ्तार किया गया था। मई 2018 में आईएएस निर्मला मीणा को गिरफ्तार किया गया था। दिसंबर 2020 में बारा जिले के तत्कालीन जिला कलेक्टर इंदर सिंह राव को गिरफ्तार किया गया।

Next Story