Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

फोन टैपिंग मामला : राजस्थान सरकार ने गृह मंत्रालय को भेजी रिपोर्ट

राजस्थान में सियासी गहमा गहमी का दौर जारी है। यहां विधायकों की खरीद-फरोख्त मामले ने ऐसा तूल पकड़ा कि राज्य में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व डिप्टी सीएम के बीच दीवार खिंच गई। राजस्थान सरकार गिराने के आरोप में एक केंद्रयी मंत्री का नाम आने के बाद अब केंद्र और राज्य सरकार के बीच टकराव की स्थिति बनी हुई है। गृह मंत्रालय ने फोन टैपिंग के मामले में राजस्थान सरकार से जवाब तलब किया था। इस पर राज्य सरकार ने गृह मंत्रालय को रिपोर्ट भेज दी है।

फोन टैपिंग मामला : राजस्थान सरकार ने गृह मंत्रालय को भेजी रिपोर्ट, दिया पूरा ब्यौरा
X
फोन टैपिंग मामला

जयपुर। राजस्थान में सियासी गहमा गहमी का दौर जारी है। यहां विधायकों की खरीद-फरोख्त मामले ने ऐसा तूल पकड़ा कि राज्य में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व डिप्टी सीएम के बीच दीवार खिंच गई। राजस्थान सरकार गिराने के आरोप में एक केंद्रयी मंत्री का नाम आने के बाद अब केंद्र और राज्य सरकार के बीच टकराव की स्थिति बनी हुई है। गृह मंत्रालय ने फोन टैपिंग के मामले में राजस्थान सरकार से जवाब तलब किया था। इस पर राज्य सरकार ने गृह मंत्रालय को रिपोर्ट भेज दी है। राज्य सरकार की रिपोर्ट में फोन टेपिंग का आधार और इनपुट्स सहित अन्य विभिन्न पहलुओं के बारे में विस्तृत ब्यौरा दिया गया है।

सूत्रों के मुताबिक, राज्य सरकार ने अपनी रिपोर्ट में सफाई देते हुए पूरी प्रक्रिया में पारदर्शिता बरते जाने की बात कही है। बताया जा रहा है कि रिपोर्ट में इस बात का जिक्र है कि सरकार ने फोन टैपिंग में सभी नियमों का पालन किया है। साथ ही सरकार ने यह भी स्पष्ट किया है कि इस प्रकरण में केंद्रीय मंत्री या किसी राजनीतिक व्यक्ति का फोन टेप नहीं किया गया है।

उधर, वायरल ऑडियो को लेकर दर्ज हुई रिपोर्ट के आधार पर एसओजी टीम खासा सक्रिय है। दो दिन पहले एसओजी ने दिल्ली स्थित केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के निवास पर एक नोटिस भेजकर जांच में सहयोग की अपील की थी। हालांकि मंत्री ने यह कहते हुए बयान के लिए हाजिर होने से इनकार कर दिया था कि पहले ऑडियो रिकॉर्डिंग की सत्यता सुनिश्चित की जाए।

Next Story