Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

एसीबी की बड़ी कार्रवाई- निजी सहायक 1.40 लाख रुपये रिश्वत लेते गिरफ्तार, जिला कलेक्टर को हटाया गया

अन्तरराष्ट्रीय भ्रष्टाचार निरोधक दिवस पर बुधवार देर शाम को बारां जिला कलक्टर के पीए महावीर नागर को भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की कोटा टीम ने 1.40 लाख रुपए की रिश्वत लेते दबोचा। पीए ने यह राशि पेट्रोल पम्प की एनओसी जारी कराने के लिए ली थी।

कार्रवाई-
X

 रिश्वत मामला

जयपुर। अन्तरराष्ट्रीय भ्रष्टाचार निरोधक दिवस पर बुधवार देर शाम को बारां जिला कलक्टर के पीए महावीर नागर को भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की कोटा टीम ने 1.40 लाख रुपए की रिश्वत लेते दबोचा। पीए ने यह राशि पेट्रोल पम्प की एनओसी जारी कराने के लिए ली थी। राजस्थान सरकार ने बारां के जिला कलेक्टर को बुधवार रात उनके पद से हटा दिया। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) की टीम ने बुधवार को बारां के जिला कलेक्टर इंद्र सिंह के निजी सहायक को 1.40 लाख रुपये की कथित रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार किया था। रात में कार्मिक विभाग ने आईएएस अधिकारी इंद्र सिंह को उनके पद से हटाने का आदेश जारी किया।

सिंह को आगामी आदेश तक एपीओ (पदस्थापन की प्रतिक्षा) के तहत रखा गया है। हालांकि, आदेश में कार्रवाई का कोई कारण नहीं बताया गया। इससे पहले ब्यूरो के महानिदेशक भगवान लाल सोनी ने बताया कि परिवादी ने ब्यूरो में शिकायत दी थी कि उसके पेट्रोल पम्प की एनओसी जारी करने के एवज में जिला कलेक्टर बारां के पीए महावीर नागर द्वारा दो लाख 40 हजार रुपये की रिश्वत मांगी जा रही है। ब्यूरो ने शिकायत का सत्यापन करवाकर बुधवार को महावीर नागर को परिवादी से 1.40 लाख रुपये की कथित रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया। सोनी के अनुसार, शुरुआती पूछताछ में आरोपी ने इस रिश्वत राशि में से एक लाख रूपये कलेक्टर के लिए तथा 40 हजार रूपये स्वयं के लिए लेना स्वीकार किया। एसीबी की टीमों ने आरोपी के निवास व अन्य ठिकानों पर तलाशी ली।

Next Story