Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जायदाद में हिस्सा मांगने पर मां ने बेटे की कर दी हत्या

राजस्थान में बांसवाड़ा जिले के अरथुना कस्बे में एक दर्दनाक घटना सामने आई है। यहां एक मां ने अपने बेटे को मौत के घाट उतार दिया। वजह बस यह बताई जा रही है कि बेटे ने जायदाद में अपना हिस्सा मांगा था। बस जायदाद में हिस्सा मांगना उसे इतना भारी पड़ेगा यह किसी ने सोचा भी नहीं होगा कि एक मां अपनी ही औलाद की जान ले सकती है।

जायदाद में हिस्सा मांगने पर मां ने बेटे की कर दी हत्या
X
हत्या

उदयपुर। राजस्थान में बांसवाड़ा जिले के अरथुना कस्बे में एक दर्दनाक घटना सामने आई है। यहां एक मां ने अपने बेटे को मौत के घाट उतार दिया। वजह बस यह बताई जा रही है कि बेटे ने जायदाद में अपना हिस्सा मांगा था। बस जायदाद में हिस्सा मांगना उसे इतना भारी पड़ेगा यह किसी ने सोचा भी नहीं होगा कि एक मां अपनी ही औलाद की जान ले सकती है। हत्या में उसे सहयोग दूसरे बेटे और उसके मित्र ने दिया। पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने बताया कि डूंगरपुर जिले के नोलियावाड़ा गांव के अशोक कुमार रावल की शिकायत पर अरथुना थाने में हत्या का मामला दर्ज किया गया है। रिपोर्ट में बताया गया है कि उसका बड़ा साला प्रेमनाथ पुत्र कचरनाथ रावल अरथुना में रहता था। सास धूली ने उसे सूचना दी कि प्रेमनाथ अपने मकान में है, लेकिन दरवाजा नहीं खोल रहा। वह पत्नी शांति के साथ वहां गया। खिड़की से झांक कर देखा, प्रेमनाथ अर्धनग्न हालत में पड़ा था।

सूचना पर पुलिस आई और पाया की प्रेमनाथ मृत पड़ा था। उसे गला घोंट कर मारा गया था। अशोक ने अपनी सास धूली और साले गणेश पर प्रेमनाथ की हत्या को लेकर आशंका जताई। उसका कहना था कि प्रेमनाथ मानसिक रूप से अस्वस्थ था। वह अपनी मां धूली से मकान और पैतृक संपत्ति में से हिस्सा मांग रहा था। इसे लेकर उसका अपनी मां के साथ विवाद चल रहा था। प्रेमनाथ पैतृक मकान पर रह रहा था, ऐसे में उसकी मां धूली अपने पुत्र गणेश के साथ डूंगरपुर जिले के सागवाड़ा कस्बे में किराए के मकान में रह रही थी।

पुलिस जांच में सामने आया कि 14 जुलाई को धूली अपने पुत्र गणेश तथा उसके मित्र सागवाड़ा निवासी राजेश उर्फ राधे पुत्र कन्हैया लाल खटीक के साथ अरथुना आई थी। प्रेमनाथ के साथ अंतिम समय में यह तीनों ही देखे गए। पुलिस ने धूली और गणेश को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो हत्या करना कुबूल कर लिया। गणेश ने बताया कि वह एक फाइनेंस कंपनी में काम करता है और उसने अपने मित्र को काम में मदद करने पर लोन दिलाने और कुछ राशि भी देने की बात कही। योजना के अनुसार, तीनों 14 जुलाई को अरथुना पहुंचे, जहां प्रेमनाथ घर पर अकेला था। मौके का फायदा उठाते हुए तीनों ने गला घोंटकर उसे मौत की नींद सुला दिया और सागवाड़ा लौट गए। पुलिस ने तीनों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया।

और पढ़ें
Next Story