Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Rajasthan Mausam Ki Jankari : राजस्थान में शीतलहर ने कंपकपाने को किया मजबूर, जानिए कब तक जारी रहेगा कड़ाके की ठंड का असर

Mausam Ki Jankari: राजस्थान के अधिकतर शहरों में कड़ाके की ठंड का असर जारी है। प्रदेश में शीतलहर ने लोगों को कंपकपाने पर मजबूर कर दिया है। वहीं कई शहरों में बस सुबह और रात की ठंड है दिन में तेज धूप ने लोगों को राहत दी हुई है। उत्‍तर भारत से लेकर मध्‍य भारत के विभिन्न राज्य में शीतलहर और तेज हाडकंपाने वाली सर्दी का असर बरबरार है।

Rajasthan Mausam ki Jankari : बारिश का दौर थमा, कड़ाके की सर्दी जारी, कोहरे ने किया परेशान
X

राजस्थान मौसम की जानकारी

जयपुर। राजस्थान के अधिकतर शहरों में कड़ाके की ठंड का असर जारी है। प्रदेश में शीतलहर ने लोगों को कंपकपाने पर मजबूर कर दिया है। वहीं कई शहरों में बस सुबह और रात की ठंड है दिन में तेज धूप ने लोगों को राहत दी हुई है। उत्‍तर भारत से लेकर मध्‍य भारत के विभिन्न राज्य में शीतलहर और तेज हाडकंपाने वाली सर्दी का असर बरबरार है। राजस्थान में भी फिर से शीतलहर का असर बुधवार रात और गुरूवार सुबह देखने को मिल रहा है। तेज ठंड के बीच गुरूवार को जयपुर का सुबह का तापमान 9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक तेज ठंड का असर प्रदेश में फिलहाल जारी रहेगा। जनवरी के पहले सप्ताह में रात के न्यूनतम तापमान में चार डिग्री तक गिरावट होने के बाद सर्दी से राहत मिलेगी। फिलहाल प्रदेश में नया पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होने से शीतलहर का असर फिर से सक्रिय हो रहा है। प्रदेश में माउंटआबू, चूरू, पिलानी, गंगानगर, सीकर, फतेहपुर, जोबनेर सहित अन्य जगहों पर शीतलहर के कारण मैदानों से लेकर पहाड़ों तक कड़ाके की ठंड चल रही है।

बीती रात माउंटआबू में रात का पारा जमाव बिंदु पर दर्ज किया गया। वहीं सीकर में रात का पारा 4 डिग्री तो फतेहपुर में दो डिग्री तापमान दर्ज किया गया। सर्दी के कारण घरों में गलन का अहसास हुआ। हालांकि 24 दिसंबर के बाद मौसम शुष्क रहने और सर्द हवा से राहत मिलने का आंकलन मौसम विभाग जता चुका है। उत्तर भारत पर बने पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव अगले 24 घंटों के दौरान जम्मू कश्मीर और लद्दाख में कुछ स्थानों पर बारिश और हिमपात होने की संभावना है। इसका असर प्रदेश के मौसम पर देखने को मिलेगा। पश्चिमी विक्षोभ असर के समाप्त होते ही मौसम पर इसका प्रभाव देखने को मिल रहा है।

Next Story