Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अब नई गाड़ी पर पुराने वाहन का नंबर लगवाना हुआ और आसान, राजस्थान सरकार ने कम की फीस

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इसके लिए राजस्थान मोटरयान नियम, 1990 के तहत विभागीय अधिसूचना में संशोधन के प्रस्ताव का अनुमोदन कर दिया है।

राजस्थान में अब नए दुपहिया व अन्य वाहनों पर पुराने नंबर बनाए रखना होगा सस्ता
X

वाहनों पर पुराने नंबर बनाए रखना होगा सस्ता

जयपुर। राजस्थान में नए दुपहिया (Two Wheeler) व अन्य वाहनों पर पुराने वाहन के ही नंबर (Registration) बनाए रखना अब सस्ता हो जाएगा, क्योंकि राज्य सरकार (Rajasthan Government) ने नए वाहन पर पुराने नम्बर रखने (रीटेन) के लिए निर्धारित शुल्क घटाने का निर्णय किया है। एक सरकारी बयान के अनुसार, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने इसके लिए राजस्थान मोटरयान नियम, 1990 (Motor Vehicle Rules, 1990) के तहत विभागीय अधिसूचना में संशोधन के प्रस्ताव का अनुमोदन कर दिया है।

कितना देना होगा शुल्क

प्रस्ताव के अनुसार, यदि दुपहिया वाहनों में पुराने वाहन का पंजीयन क्रमांक नए वाहन पर भी रखा (रीटेन) जाता है और वर्तमान पंजीयन क्रमांक 0001, 0003, 0005, 0007, 0009 अथवा 0786 है, तो इसको बनाए रखने के लिए निर्धारित शुल्क 10 हजार रुपये देना होगा। दुपहिया वाहन पर उपरोक्त विशेष पंजीयन क्रमांकों के अलावा शेष किसी भी पंजीयन क्रमांक को बनाए रखने के लिए वर्तमान में प्रचलित शुल्क राशि 10 हजार रुपये को घटाकर 5 हजार रुपये किया जाएगा।

संशोधन प्रस्ताव के अनुसार, दुपहिया के अलावा दूसरे वाहनों के लिए पुराने वाहन के पंजीयन क्रमांक 0001, 0003, 0005, 0007, 0009 अथवा 0786 को नए वाहन पर भी बनाए रखने के लिए वर्तमान में प्रचलित निर्धारित शुल्क 1,01,000 रुपये के स्थान पर शुल्क राशि 51 हजार रुपये प्रस्तावित की गई है। इसी प्रकार, दुपहिया से अलग वाहनों पर उपरोक्त विशेष पंजीयन क्रमांकों के अलावा शेष किसी भी पंजीयन क्रमांक को रीटेन करने के लिए वर्तमान में प्रचलित निर्धारित शुल्क 1,01,000 रुपये के स्थान पर शुल्क राशि 21,000 रुपये की जाएगी।

Next Story