Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Rajasthan Lockdown : राजस्थान के 13 जिलों में 31 दिसंबर तक लगा लॉकडाउन, जानिए क्या खुलेगा और क्या रहेगा बंद

राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमण का ग्राफ बढ़ता जा रहा है। राज्य में कोरोना को लेकर स्थिति चिंताजनक बनी हुई है। ऐसे में राज्य सरकार ने सोमवार को इस घातक बीमारी पर अंकुश लगाने के लिए कई अहम निर्णय लिए हैं।

Rajasthan Corona Lockdown : राज्य के प्रतिबंधित क्षेत्रों में 31 दिसंबर तक लगा लॉकडाउन, जानिए क्या खुलेगा और क्या रहेगा बंद
X

राजस्थान लॉकडाउन

जयपुर। राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमण का ग्राफ बढ़ता जा रहा है। राज्य में कोरोना को लेकर स्थिति चिंताजनक बनी हुई है। ऐसे में राज्य सरकार ने सोमवार को इस घातक बीमारी पर अंकुश लगाने के लिए कई अहम निर्णय लिए हैं। राज्य में बढ़ते कोरोना वायरस संक्रमण को देखते हुए प्रतिबंधित क्षेत्रों में 31 दिसंबर तक फिर से लॉकडाउन लागू करने और 13 जिलों में रात में कर्फ्यू लगाने का निर्णय लिया है। इन सभी 13 जिलों में रात आठ बजे से सुबह छह बजे तक कर्फ्यू रहेगा और इस दौरान सभी बाजार, कार्यालय और वाणिज्यिक परिसर बंद रहेंगे।

सभी स्कूल, कॉलेज भी बंद

प्रमुख शासन सचिव (गृह) की ओर से रविवार रात जारी दिशा निर्देशों के अनुसार, राज्य में सभी स्कूल, कॉलेज, कोचिंग और शैक्षणिक संस्थान 31 दिसंबर तक बंद रहेंगे। प्रमुख शासन सचिव (गृह) अभय कुमार द्वारा जारी दिशा निर्देशों में कहा गया है कि निरुद्ध क्षेत्रों का प्रभावी सीमांकन संक्रमण फैलने की श्रृंखला को तोड़ने और संक्रमण को काबू करने के लिये महत्वपूर्ण है। कुमार ने कहा कि संबंधित जिलाधिकारी एवं जिला दंडाधिकारी भारत सरकार द्वारा जारी दिशा निर्देशों के अनुसार निरुद्ध क्षेत्रों का निर्धारण करेंगे।

केवल आवश्यक गतिविधियों की ही मिलेगी अनुमति

सरकार द्वारा जारी गाइडलाइंस के मुताबिक राज्य में केवल आवश्यक गतिविधियों की ही अनुमति दी जायेगी। सरकार ने राज्य के पांच और जिलों नागौर, पाली, टोंक, सीकर और गंगानगर में रात्रिकालीन कर्फ्यू लगाया है। इससे पहले कोटा, जयपुर, जोधपुर, बीकानेर, उदयपुर, अजमेर, अलवर और भीलवाड़ा में रात्रिकालीन कर्फ्यू लगाया गया था। विवाह समारोहों में यह सुनिश्चित किया जायेगा कि आमंत्रित मेहमानों की संख्या 100 से अधिक नहीं होगी और कार्यक्रम के दौरान सामाजिक दूरी बनाए रखना एवं मास्क पहनना अनिवार्य होगा। इसके अलावा 'मास्क के बिना प्रवेश निषेध' का सख्ती से पालन किया जाएगा। इसी तरह अंतिम संस्कार में 20 से अधिक लोग भाग नहीं ले सकेंगे।

Next Story