Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

राजस्थान में खाद्य पदार्थों में मिलावट के खिलाफ 26 अक्टूबर से 14 नवंबर तक विशेष अभियान चलाने के निर्देश

राजस्थान में प्रदेश सरकार ने मिलावटखोरों के खिलाफ लगाम लगाने के लिए एक नई पहल की है। सरकार द्वारा पूरे प्रदेश में खाद्य पदार्थों में मिलावट के खिलाफ अभियान चलाने का फैसला किया है। यह अभियान 26 से 14 नवंबर के बीच चलाया जाएगा।

राजस्थान में खाद्य पदार्थों में मिलावट के खिलाफ 26 अक्टूबर से 14 नवंबर तक विशेष अभियान चलाने के निर्देश
X

राजस्थान में प्रदेश सरकार ने मिलावटखोरों के खिलाफ लगाम लगाने के लिए एक नई पहल की है। सरकार द्वारा पूरे प्रदेश में खाद्य पदार्थों में मिलावट के खिलाफ अभियान चलाने का फैसला किया है। यह अभियान 26 से 14 नवंबर के बीच चलाया जाएगा। राजस्थान के मुख्य सचिव राजीव स्वरूप ने त्योहार के मौकों पर राज्य में खाद्य पदार्थों में मिलावट के खिलाफ विशेष अभियान चलाने का आदेश शुक्रवार को जारी किया। राज्य में खाद्य पदार्थों में मिलावट के खिलाफ 26 अक्टूबर से 14 नवंबर तक विशेष अभियान चलाया जायेगा।

'शुद्ध के लिए युद्ध' अभियान के दौरान, दूध, मावा, पनीर, मिठाइयों, दूध से बने अन्य उत्पादो, आटा, बेसन, खाद्य तेल एवं घी, सूखे मेवे, मसालों, अन्य खाद्य पदार्थो तथा बाट एवं माप की जांच को प्राथमिकता दी जाएगी। एक सरकारी बयान के अनुसार राज्य व्यापी अभियान के सुचारू संचालन, प्रबंधन एवं प्रबोधन हेतु राज्य स्तर पर गठित कोर ग्रुप में गृह तथा चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभागों के प्रमुख शासन सचिव और खाद्य एवं आपूर्ति तथा पशुपालन एवं डेयरी विभागों के शासन सचिव शामिल हैं।

अभियान की अवधि में खाद्य पदार्थो में मिलावट करने वाले उत्पादकों के विरूद्ध प्रभावी कार्रवाई सुनिश्चित करने के लिए सूचना देने वालों को जिला कलेक्टर की ओर से 51,000 रूपए की प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। सूचना देने वालों की पहचान गोपनीय रखी जाएगी।

राजस्थान के मुख्य सचिव राजीव स्वरूप ने शासन सचिवालय से विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारियों एवं जिला कलेक्टरों को वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से संबोधित किया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने जन जागरूकता के साथ-साथ 'शुद्ध के लिए युद्ध' अभियान को प्राथमिकता में रखा है। त्यौंहार एवं शादियों के समय में खाद्य पदार्थों में मिलावट का भय बढ़ जाता है।

Next Story