Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पिंक सिटी में चोरों ने खरीदा 90 लाख का मकान, फिर सुरंग बनाकर करोड़ों की चांदी ले उड़े

राजस्थान की पिंक सिटी (जयपुर) (Jaipur) से एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। हेयरप्लांट विशेषज्ञ डॉक्टर सुनीत सोनी ने 24 फरवरी को पुलिस को शिकायत (Police Complaint) दी कि उसके घर से चोरों ने बेसमेंट के अंदर 3 बक्सों में काफी मात्रा में रखे चांदी के गहने चोरी कर लिए हैं।

पिंक सिटी में चोरों ने खरीदा 90 लाख का मकान, फिर सुरंग बनाकर करोड़ों की चांदी ले उड़े
X

घटना की जानकारी देते रायसिंह बेनीवाल एएसपी जयपुर व घर के अंदर बदमाशों द्वारा खोदी गई सुरंग। 

राजस्थान पिंक सिटी (जयपुर) (Jaipur) से एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। हेयरप्लांट विशेषज्ञ डॉक्टर सुनीत सोनी ने 24 फरवरी को पुलिस को शिकायत (Police Complaint) दी कि उसके घर से चोरों ने बेसमेंट के अंदर 3 बक्सों में काफी मात्रा में रखे चांदी के गहने चोरी कर लिए हैं। डॉक्टर (Doctor) ने बताया कि पीछे खाली प्लॉट है, वहां पर सुरंग खोदी गई और चांदी निकाली गई।

आपको बता दें कि जयपुर के वैशाली नगर थाना इलाके में चोरों ने 20 फीट लंबी सुरंग बनाकर हेयरप्लांट विशेषज्ञ डॉक्टर सुनीत सोनी के घर में चोरी की बड़ी वारदात को अंजाम दिया है। चोरों ने बेसमेंट में तीन बक्सों में छुपाकर रखी गई करोड़ों की चांदी पर हाथ साफ कर दिया। चोर इतने बड़े शातिर थे कि इस घटना को अंजाम देने के लिए बदमाशों ने 90 लाख रुपये में डॉक्टर के पीछे एक मकान खरीदा। फिर इस मकान के कमरे को खोदकर सोनी के मकान के बेसमेंट तक पहुंचने के लिए सुरंग बनाई थी।

वारदात का खुलासा तब हुआ, जब दो दिन पहले सोनी ने बेसमेट में देखा, इसमें चांदी के बक्से गायब मिले। इसके बाद उन्होंने शुक्रवार को चोरी की पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। वहीं राजधानी में हुई चांदी की चोरी पर टैक्स एजेंसियों की भी नजर बनाए हुए हैं। मामले पर आयकर विभाग, कस्टम्स, डीआरआई निगाह बनाए हुए हैं।

चोरों के पकड़ने के बाद होगा खुलासा

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, जयपुर में डॉक्टर सुनीत सोनी के बेसमेंट हुई चांदी चोरी पर पुलिस के खुलासे पर टैक्स एजेंसियों की नजर है। मामले की मीडिया से मिली जानकारी के आधार पर टैक्स एजेंसियां सतर्क हुई हैं हालांकि आयकर विभाग की अन्वेषण शाखा को पुलिस की ओर से चोरी के खुलासे और बरामदगी का इंतजार है। बरामदी की चांदी और चिकित्स्क और परिजनों की आईटीआर के मूल्याकंन ने बाद टैक्स एजेंसियां अपना दायरा बढ़ा सकती है।

Next Story