Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

आरक्षण की मांगों को लेकर कल होगी गुर्जरों की महापंचायत, प्रशान ने कसी कमर

राजस्थान में गुर्जर आरक्षण की मांगें फिर से उठने लगी हैं। इसी को लेकर गुर्जर कल यानी शनिवार को महापंचायत के लिए जुट रहे हैं। इस महापंचायत को देखते हुए प्रशासन ने कमर कसना शुरू कर दिया है।

आरक्षण की मांगों को लेकर कल होगी गुर्जरों की महापंचायत, प्रशान ने कसी कमर
X

गुर्जरों की महापंचायत कल

राजस्थान में गुर्जर आरक्षण की मांगें फिर से उठने लगी हैं। इसी को लेकर गुर्जर कल यानी शनिवार को महापंचायत के लिए जुट रहे हैं। इस महापंचायत को देखते हुए प्रशासन ने कमर कसना शुरू कर दिया है। स्थानीय प्रशासन इस मामले को लेकर कोई भी लापरवाही बरतना नहीं चाहता है इसीलिए भरतपुर में महापंचायत के मद्देनजर जिला कलक्टर नथमल डिडेल ने एक आदेश जारी करते हुए जिले के सभी सरकारी कर्मचारियों और अधिकारियों के अवकाश निरस्त कर दिए हैं।

तुरंत प्रभाव से जारी आदेश आगामी आदेश आने तक प्रभावी रहेंगे। जिला कलक्टर के आदेश के मुताबिक जिले में कार्यरत सभी जिला स्तरीय अधिकारी, उपखंड स्तरीय अधिकारी, तहसीलदार, खंड विकास अधिकारियों को खासतौर से जिला मुख्यालय नहीं छोड़ने के लिए पाबन्द किया गया है। इन सभी कार्मिकों को अवकाश कलक्टर की अनुमति के बिना नहीं दिया जा सकेगा। वहीं, बाकी कार्मिकों को बिना सक्षम अधिकारी की स्वीकृति के मुख्यालय नहीं छोडऩे के लिए पाबन्द किया गया है।

किरोड़ी सिंह बैंसला ने बुलाई है महापंचायत

ये महापंचायत इसलिए महत्वपूर्ण मानी जा रही है कि इसमें ही गुर्जरों के आगामी आन्दोलन को लेकर कोई घोषणा की जाएगी। गौरतलब है कि गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के संयोजक कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला ने अड्डा गांव में कल महापंचायत बुलाई है, जिसमें बड़ी संख्या में समाज के लोग और प्रतिनिधि इकट्ठा होंगे।

ग्रामीणों ने अधिकारियों के सामने सरकारों की वायदा खिलाफी के प्रति अपनी नाराजगी का इजहार करते कहा कि भाजपा एवं कांग्रेस की सरकारों ने गुर्जर समाज को दूध पीते बच्चों की तरह बहलाया, बार-बार समझौते और वादे किए, लेकिन उनका कोई भी वायदा आज तक पूरा नहीं हुआ।

महापंचायत को लेकर कानून व्यबस्था का जायजा लेने गुरुवार शाम अड्डा गांव पहुंचे जिला कलक्टर नथमल डिडेल एवं पुलिस अधीक्षक डॉ. अमनदीप सिंह कपूर सहित अन्य अधिकारियों को गुर्जर समुदाय के लोगों की नाराजगी का सामना भी करना पड़ा।

Next Story