Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

करौली में जिंदा जलाए गए पुजारी को न्याय दिलाने की मांग, धरने पर बैठे सांसद किरोड़ी लाल, परिवार ने किया अंतिम संस्कार करने से इंकार

राजस्थान के किरौली में शुक्रवार को भूमि विवाद को लेकर एक पुजारी को जिंदा जला देने का मामले ने तूल पकड़ लिया है। इस घटना के बाद वहां लोगों में गुस्सा पैदा हो गया है। वह इस मामले में न्याय की मांग कर रहे हैं। परिवार के लोगों ने पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया है और राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार के सामने कुछ मांगें रखी हैं।

करौली में जिंदा जलाए गए पुजारी को न्याय दिलाने की मांग, धरने पर बैठे सांसद किरोड़ी लाल, परिवार ने किया अंतिम संस्कार करने से इंकार
X
करौली घटना

राजस्थान के किरौली में शुक्रवार को भूमि विवाद को लेकर एक पुजारी को जिंदा जला देने का मामले ने तूल पकड़ लिया है। इस घटना के बाद वहां लोगों में गुस्सा पैदा हो गया है। वह इस मामले में न्याय की मांग कर रहे हैं। परिवार के लोगों ने पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया है और राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार के सामने कुछ मांगें रखी हैं। परिवार का कहना है कि जब तक मांगें पूरी नहीं हो जाती हैं वह अंतिम संस्कार नहीं करेंगे। आपको बता दें कि इस मामले के मुख्य आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

वहीं इस मामले को बढ़ता देख राज्यसभा सांसद डॉ किरोड़ी लाल मीणा आज करौली के सपोटरा स्थित बूकना गांव पहुंचे। यहाँ मृतक पुजारी बाबूलाल वैष्णव के परिवार से मिलकर उन्हें ढ़ाढस बंधवाया और एक लाख रुपए की आर्थिक मदद देने की बात कही। इसके बाद वे मृतक बाबूलाल वैष्णव को न्याय दिलाने की मांग पर वैष्णव परिवार व पंच-पटेलों के साथ धरने पर बैठ गए। इस पहले उन्होंने गांव के पंच-पटेलों से बातचीत की और हर संभव मदद का आश्वासन दिया। सांसद ने मृतक-परिवार को हर स्थिति में न्याय मिलने और अपराधियों को सख्त सजा दिए जाने की मांग की।

50 लाख मुआवजा और सरकारी नौकरी की मांग

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक पुजारी के रिश्तेदार ललित ने कहा कि जब तक हमारी मांगें पूरी नहीं होतीं, हम दाह संस्कार नहीं करेंगे। हम चाहते हैं कि 50 लाख रुपये मुआवजा और एक सरकारी नौकरी मिले। सभी आरोपियों को गिरफ्तार किया जाना चाहिए और आरोपियों का समर्थन करने वाले पटवारी और पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए. हम सुरक्षा चाहते हैं।

Next Story