Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

राजस्थान राजनीतिक संकट : कांग्रेस विधायक राजभवन में धरने पर बैठे, भाजपा ने साधा निशाना

राजस्थान में सियासी संग्राम चरम पर पहुंच गया है। सचिन पायलट गुट की नोटिस याचिका पर हाईकोर्ट के यथास्थिति के आदेश के बाद सियासी हलचल जबरदस्‍त तरीके से तेज हो गई है। राजस्थान में कांग्रेस विधायक तथा अशोक गहलोत सरकार के समर्थक अन्य विधायक शुक्रवार अपराह्न राजभवन के दालान में सत्र की मांग को लेकर धरने पर बैठ गए।

राजस्थान राजनीतिक संकट : कांग्रेस विधायक राजभवन में धरने पर बैठे, भाजपा ने साधा निशाना
X
राजभवन में धरना

जयपुर। राजस्थान में सियासी संग्राम चरम पर पहुंच गया है। सचिन पायलट गुट की नोटिस याचिका पर हाईकोर्ट के यथास्थिति के आदेश के बाद सियासी हलचल जबरदस्‍त तरीके से तेज हो गई है। राजस्थान में कांग्रेस विधायक तथा अशोक गहलोत सरकार के समर्थक अन्य विधायक शुक्रवार अपराह्न राजभवन के दालान में सत्र की मांग को लेकर धरने पर बैठ गए।

ये विधायक विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने का सामूहिक आग्रह करने के लिए राजभवन गए थे। परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा कि हमने राज्यपाल से नियमों के तहत विधानसभा का सत्र बुलाने का आग्रह किया। राज्यपाल केंद्र के निर्देशों पर काम कर रहे हैं। जब तक सत्र की तारीख नहीं दी जाती है हम यहां पर बैठे हैं। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इससे पहले राज्यपाल कलराज मिश्र से मुलाकात की। इसके बाद राज्यपाल विधायकों से मिलने भी आए।

उधर, भाजपा बोली- गहलोत खुद के कुनबे को नहीं संभाल पा रहे

विधानसभा में उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने सीएम पर जवाबी हमला बोलते हुए कहा कि राज्यपाल के लिए सीएम अशोक गहलोत धमकी वाली भाषा का इस्‍तेमाल कर रहे हैं। जबकि राज्यपाल का पद संवैधानिक प्रमुख का है। गहलोत खुद के कुनबे को संभाल नहीं पा रहे हैं।

कभी बीजेपी और कभी राजभवन पर अंगुली उठा रहे हैं। सत्ता के लिए हो रही इस हलचल को लेकर बीजेपी भी रणनीति बनाने में जुट गई है। बीजेपी के प्रदेश कार्यालय में प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया, नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया और पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अरुण चतुर्वेदी मंत्रणा करने में जुटे हैं।

Next Story