Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बोले - लोगों की लड़ाई बन गया है कोरोना वायरस, लापरवाही न बरतें

प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कोरोना संवाद कार्यक्रम का आयोजन किया। गहलोत ने कहा है कि देश में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं और अब यह लोगों की लड़ाई बन गया हैं।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बोले - लोगों की लड़ाई बन गया है कोरोना वायरस, लापरवाही न बरतें
X
अशोक गहलोत

राजस्थान में कोरोना वायरस भयावह रूप लेता जा रहा है। प्रदेश में कोरोना वायरस को लेकर स्थिति बिगड़ती जा रही है। रोजाना कोरोना संक्रमितों की संख्या में तेजी देखने को मिल रही है। इसी समस्या को लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कोरोना संवाद कार्यक्रम का आयोजन किया।

गहलोत ने कहा है कि देश में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं और अब यह लोगों की लड़ाई बन गया हैं। गहलोत वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए कोरोना जागरुकता संवाद कार्यक्रम में देश के प्रसिद्ध डॉक्टरों के साथ प्रदेश की जनता से सीधे रूबरू हो रहे थे। उन्होंने कहा कि भारत विश्व में ऐसा देश बन गया है जहां रोज एक लाख से अधिक कोरोना के मामले आने लगे हैं और आज कोरोना लोगों की लड़ाई बन गया है। इसके लिए खुद आगे आना होगा।

उन्होंने कहा कि कोरोना को लेकर राज्य सजग है और हमने हर स्तर पर काम किया है और कहीं कोई कमी नहीं रखी है। उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि कोरोना के खिलाफ लापरवाही नहीं बरतें। कोरोना को गंभीरता से लेकर इसके प्रोटोकॉल की पालना की जानी चाहिए। इससे बचाव ही इसका एक उपाय है। उन्होंने कहा कि चिकित्सकों ने मार्च में ही कोरोना के बारे में चेता दिया था और जिसका फायदा राजस्थान को मिला। हमने राजस्थान में स्वास्थ मित्र तैयार किए तथा निरोगी राजस्थान अभियान की शुरुआत की, जिसका कोरोना काल में फायदा मिला।

सीएम ने खुशी जताते हुए कहा कि प्रदेश की आठ हजार पंचायत इस कार्यक्रम से जुड़ी हैं और इसका सोशल मीडिया पर भी प्रसारण हुआ। चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा ने बताया कि इस कार्यकम के जरिए चिकित्सकों ने प्रदेश की जनता को कोरोना से बचने एवं इससे लडऩे के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि अभी इसकी कोई दवा नहीं आई है और लोगों में कोरोना के प्रति डर न हो, इसलिए यह कार्यक्रम रखा गया।

इस दौरान अधिकारियों ने चार्ट के माध्य से राजस्थान में कोरोना के लॉकडाउन और अनलॉक में आए मामलों में अंतर के बारे में बताते हुए प्रदेश में कोरोना से लडऩे के लिए किए गए इंतजाम की जानकारी दी। सवाई मानसिंह अस्पताल अधीक्षक सुधीर भंडारी ने बताया कि राज्य में कोरोना जांच मार्च में ही शुरू कर दी गई थी और उस समय एसएमएस की टीम द्वारा जानकारी जुटाकर कोरोना पीडि़तों का इलाज किया गया। प्रसिद्ध चिकित्सक नरेश त्रेहान, देवी शेट्टी, एस के सरीन सहित देश के कई बड़े चिकित्सकों ने लोगों को कोरोना से बचाव एवं सावधानियों के बारे में बताया

Next Story
Top