Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सीएम गहलोत ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना, बोले- जनता की प्रतिष्ठा दांव पर, संवेदनहीन सरकार को कोई परवाह नहीं

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने देश में चल रहे किसान आंदोलन को जनता की प्रतिष्ठा का सवाल बताते हुए कहा कि किसान महीने भर से सड़क पर बैठे हैं लेकिन केंद्र की संवेदनहीन सरकार को इसकी कोई परवाह नहीं।

सीएम गहलोत ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना, बोले- जनता की प्रतिष्ठा दांव पर संवेदनहीन सरकार को कोई परवाह नहीं
X

अशोक गहलोत

जयपुर। केंद्र सरकार द्वारा लाए गए नए कृषि विधेयकों के खिलाफ मामला बढ़ता जा रहा है। एक तरफ जहां किसानों ने इन विधेयकों के खिलाफ बवाल काटा हुआ है वहीं दूसरी तरफ विपक्ष भी केंद्र सरकार पर हमलावर हो रहा है। अब राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने देश में चल रहे किसान आंदोलन को जनता की प्रतिष्ठा का सवाल बताते हुए कहा कि किसान महीने भर से सड़क पर बैठे हैं लेकिन केंद्र की संवेदनहीन सरकार को इसकी कोई परवाह नहीं। गहलोत ने कहा कि कभी मध्यप्रदेश तो कभी अन्य प्रदेशों के किसानों से अलग अलग बात करने की बजाय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को देश के किसानों से बात करनी चाहिए।

अपनी सरकार के दो साल का कार्यकाल पूरे होने पर यहां मीडिया से संवाद कार्यक्रम में गहलोत ने किसान आंदोलन का जिक्र करते हुए कहा कि भारत सरकार को समझना चाहिए कि किसान सर्दी में बैठे हैं, लेकिन उसे परवाह ही नहीं है, इतनी संवेदनहीनता नहीं होनी चाहिए। प्रतिष्ठा तो जनता की होती है, जनता की प्रतिष्ठा कायम रहेगी तो नेता की प्रतिष्ठा कायम रहेगी, सरकार की प्रतिष्ठा कायम रहेगी। आज जनता की प्रतिष्ठा दांव पर लगी हुई है। उन्होंने कहा कि किसान 25-30 दिन से सड़कों पर बैठे हैं और कोई सुनवाई करने वाला नहीं है। रोज उनको निमंत्रण देकर भ्रम फैलाते हैं और आरोप विपक्ष लगाते हैं। किसान आंदोलन को स्वत:स्फूर्त आंदोलन बताते हुए गहलोत ने कहा कि पूरे देश के किसान दुखी हैं वे समझते हैं कि आने वाला वक्त बर्बादी भरा होगा और वे अपनी आने वाली पीढ़ी को इस बर्बादी से बचाना चाहते हैं इसलिए आंदोलन की राह पर हैं।

गहलोत ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कभी मध्यप्रदेश तो किसी अन्य राज्य के किसानों से बात करने के बजाय देश के किसानों से बात करनी चाहिए और उन्हें अपने कृषि विधेयकों के बारे में समझाना चाहिए। कुछ महीने पहले उनकी सरकार पर आए संकट का जिक्र करते हुए गहलोत ने कहा कि भाजपा मुसलमानों का इस्तेमाल देश में चुनी हुई सरकारों को गिराने में कर रही है। गहलोत ने कहा कि उनकी सरकार को गिराने के षडयंत्र में केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के साथ साथ राज्य में भाजपा के चार नेताओं और जफर इस्लाम भी शामिल थे। गहलोत ने कहा कि सब हथियार उन्होंने अपना लिए।

चाहे धर्मेंद्र प्रधान हो या चाहे जफर इस्लाम एक नया जफर इस्लाम पैदा हुआ है देश में जो चाहे मध्य प्रदेश की सरकार हो या राजस्थान की एक मुसलमान को टिकट नहीं देती भाजपा। उत्तर प्रदेश में 400 और बिहार में 250 के करीब टिकट दी जाती हैं भाजपा एक टिकट किसी मुसलमान को नहीं देती। और मुसलमानों को सरकारें गिराने के लिए इस्तेमाल कर रही है।

Next Story