Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

राजस्थान में कोरोना को लेकर फिर हुई समीक्षा बैठक, गहलोत बोले- जिन जिलों में केस बढ़ रहे वहां कड़े कदम उठाएं

प्रदेश में कोरोना को लेकर बिगड़ते हालात को देखते हुए और इस घातक बीमारी पर नियंत्रण किस प्रकार से हो इसके लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने एक बार फिर कोरोना की समीक्षा बैठक ली।

राजस्थान में कोरोना को लेकर फिर हुई समीक्षा बैठक, गहलोत बोले- जिन जिलों में केस बढ़ रहे वहां कड़े कदम उठाएं
X

राजस्थान समीक्षा बैठक

जयपुर। राजस्थान में कोरोना वायरस (Rajasthan Corona Virus) के लगातार बढ़ते मामले सरकार के सामने चिंता का विषय बने हुए हैं। प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर के तहत संक्रमण बहुत तेजी से फैल रहा है। प्रदेश में कोरोना को लेकर बिगड़ते हालात को देखते हुए और इस घातक बीमारी पर नियंत्रण किस प्रकार से हो इसके लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने एक बार फिर कोरोना की समीक्षा बैठक (Review meeting) ली। आज सुबह 10:30 बजे मुख्यमंत्री आवास पर हुई कोरोना समीक्षा बैठक में चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा (Health Minister Raghu Sharma), मुख्य सचिव चिकित्सा और विभाग के अधिकारी भी शामिल हुए।

जिला कलेक्टर और चिकित्सा अधिकारी भी बैठक से जुड़े

इसके अलावा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कई जिलों के जिला कलेक्टर और चिकित्सा अधिकारी भी बैठक से जुड़े। बैठक में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेश के जिन जिलों में लगातार कोरोना के मामले सामने आ रहे हैं वहां पर कड़े कदम उठाने के निर्देश अधिकारियों को दिए। साथ ही कोरोना गाइडलाइन की सख्ती से पालना के निर्देश भी अधिकारियों को दिए। समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि अधिकारी कोरोना को लेकर जिलों का एक्शन प्लान बनाएं और नियमित मॉनिटरिंग करें। इसके अलवा कोरोना की पॉजिटिविटी रेट, मृत्यु दर, ग्रोथ रेट की नियमित समीक्षा करें साथ ही टीकाकरण की गति को और बढ़ाया जाए।

कोरोना प्रोटोकोल का सख्ती से पालन हो

मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी कलक्टर्स कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग व माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाने पर फोकस करें। मुख्यमंत्री ने समीक्षा बैठक के बाद ट्वीट करते हुए लिखा कि 'नो मास्क नो एंट्री' की सख्ती से पालना सुनिश्चित की जाए। लोगों का जीवन बचाना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है। आज की स्थिति में बढ़ते हुए संक्रमण को देखते हुए हम किसी भी कीमत पर कोई कॉम्प्रोमाइज नहीं करेंगे और जरूरी फैसले लिए जाएंगे।

और पढ़ें
Next Story