Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

राजस्थान में कोरोना की तीसरी लहर का खौफ, गहलोत बोले- आंकड़ेबाजी छोड़कर राज्यों को ज्यादा से ज्यादा टीके उपलब्ध करवाए स्वास्थ्य मंत्रालय

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को टीकाकरण को लेकर आंकड़ेबाजी छोड़ कर राज्यों को अधिकाधिक टीके उपलब्ध करवाने चाहिए। इसके साथ ही गहलोत ने देश में कोरोना वायरस प्रतिरक्षण टीकों के उत्पादन को प्राथमिकता दिए जाने का सुझाव दिया है।

अशोक गहलोत ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर की मांग, पर्याप्त मात्रा में टीका उपलब्ध कराए सरकार
X

अशोक गहलोत टीका

जयपुर। राजस्थान में कोरोना वायरस की तीसरी लहर (Third Wave of Corona Virus) का खौफ आम लोगों पर प्रदेश सरकार पर साफ देखा जा सकता है। यह तीसरी लहर इसलिए भी खतरनाक साबित हो सकती है क्योंकि यह घातक बीमारी बच्चों पर ज्यादा प्रभाव डाल रही है। राजस्थान के पाली जिले में अब तक 1200 से अधिक बच्चे कोरोना की चपेट में आ गए हैं। ऐसे में राज्य सरकार के सामने नई चुनौती उत्पन्न हो गई है। वहीं राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने मंगलवार को कहा कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को टीकाकरण को लेकर आंकड़ेबाजी छोड़ कर राज्यों को अधिकाधिक टीके उपलब्ध करवाने चाहिए। इसके साथ ही गहलोत ने देश में कोरोना वायरस प्रतिरक्षण टीकों के उत्पादन को प्राथमिकता दिए जाने का सुझाव दिया है।

गहलोत ने ट्वीट किया कि केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को आंकड़ेबाजी छोड़ कर राज्यों को अधिकाधिक टीके उपलब्ध कराना चाहिए। यदि तीसरी लहर ने बच्चों को प्रभावित किया तो देश कभी माफ नहीं करेगा। गहलोत के अनुसार, '130 करोड़ आबादी वाले हमारे देश में शीघ्र ही सभी के लिए टीकों का इंतजाम नहीं हुआ और कोरोना की तीसरी लहर ने बच्चों को अपनी चपेट में ले लिया तो ऑक्सीजन और दवाइयों की कमी से जो स्थिति दूसरी लहर में बनी, उससे कई गुना बदतर हालात तीसरी लहर में बनेंगे और हम बच्चों को बचा नहीं पायेंगे।'

मुख्यमंत्री ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन को टीका उत्पादन को सर्वोच्च प्राथमिकता देना चाहिए था। उन्होंने कहा कि इसके लिए आवश्यक हो तो कानून में बदलाव कर अन्य कंपनियों को भी वैक्सीन उत्पादन करने की अनुमति तथा प्रोत्साहन दिया जाना चाहिए। भारत वैक्सीन उत्पादन में दुनिया भर में सिरमौर माना जाता है।

Next Story