Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

भ्रष्ट अफसर के खिलाफ एसीबी ने की बड़ी कार्रवाई, इतने पैसे किये जब्त सुनकर उड़ जाएंगे होश

एसीबी ने अब देर रात बाड़मेर में बड़ा ट्रेप किया है। एसीबी ने भूतपूर्व सैनिकों, उनके परिवारों और पौंग बांध विस्थापितों के लिए सरकार की ओर से दी गई जमीन में हेरफेर करने वाले एक अफसरऔर उसके दलाल को पकडा है। पांच से छह लाख रुपए का कैश लेते समय यह कार्रवाई की गई है।

भ्रष्ट अफसर के खिलाफ एसीबी की बड़ी कार्रवाई, इतने पैसे जब्त सुनकर आपके भी उड़ जाएंगे होश
X

एसीबी की बड़ी कार्रवाई

जयपुर। राजस्थान में भ्रष्टाचार रोधी ब्यूरो(एसीबी) फुल एक्शन मोड में नजर आ रही है। पिछले कई दिनों से एसीबी भ्रष्टाचार करनेवालों के खिलाफ ताबड़तोड़ कार्रवाई करती नजर आ रही है। एसीबी की ओर से एक और बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया गया है। एसीबी ने अब देर रात बाड़मेर में बड़ा ट्रेप किया है। एसीबी ने भूतपूर्व सैनिकों, उनके परिवारों और पौंग बांध विस्थापितों के लिए सरकार की ओर से दी गई जमीन में हेरफेर करने वाले एक अफसरऔर उसके दलाल को पकडा है। पांच से छह लाख रुपए का कैश लेते समय यह कार्रवाई की गई है। उसके बाद दलाल को जैसलमेर और अफसर को बाड़मेर जिले से पकडा गया है। अफसर के जयपुर, बाडमेर, जोधपुर स्थित आवास पर सर्च किया गया तो वहां पर भी लाखों रुपयों कैश, अन्य दस्तावेज और शराब की बेहद महंगी बोतलें भी मिली हैं। अफसर 31 अक्टूबर को ही रिटायर हुआ है।

गलत तरीके से बेची जा रही थी जमीनें

दरअसल सरकार ने जमीनों की देखरेख और उनको सही हाथों में बिना परेशानी सौपने के लिए कॉलोनाइजेशन डिपार्टमेंट को यह जिम्मेदारी दी थी। डिपार्टमेंट में वर्तमान में प्रेमाराम परमार आरएएस लगे हुए थे। इनके पास ही यह जिम्मेदारी थी। लेकिन प्रेमाराम ने दलाल नजीर खान के साथ मिलकर बडा खेल कर दिया। दलाल नजीर खान अफसर प्रेमाराम की मदद से इन जमीनों को विस्थापितों से औने-पोने दामों में खरीद लेते और बाद में जमीनों को बड़े दामों में बेचते। इसके लिए जिस सरकारी कागजी कार्रवाई की जरूरत होती वह कार्रवाई अफसर प्रेमाराम करते और जिन बोगस ग्राहकों की जरुरत होती उनका इंतजाम नजीर खान करता। इस तरह से बाद मे जमीनों को बेचकर दोनो कमीशन बांटते थे। प्रेमाराम 31 अक्टूबर को रिटायर हुए। इससे पहले उन्होनें बडी संख्या में इस तरह की जमीनों फाइलें निपटाई थीं। इन फाइलों के निस्तारण के बाद गलत तरीके से जमीनें बेची जा रही थी और लगभग हर दूसरे दिन लाखों रुपए कमीशन आ रहा था। देर रात बाडमेर में नजीर खान ने प्रेमाराम को उसके आवास पर पांच लाख रुपए दिए थे। यह रुपए एसीबी ने बरामद कर लिए और प्रमाराम को पकड लिया। उधर नजीर खान जो जैसेलमेर भाग गया था उसे भी सवेरे पकड लिया गया। अब दोनों के कच्चे चिट्ठे खोले जा रहे हैं।

Next Story