Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

राजस्थान में कोरोना के बाद ब्लैक फंगस ने बढ़ाई टेंशन, लगभग 700 मामले आए सामने

राजस्थान के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर रघु शर्मा ने कहा कि राज्य में ब्लैक फंगस के लगभग 700 मामले सामने आए हैं और राज्य सरकार ने इस बीमारी को महामारी घोषित करने के लिये अधिसूचित भी कर दिया है।

राजस्थान में कोरोना के बाद ब्लैक फंगस ने बढ़ाई टेंशन, लगभग 700 मामले आए सामने
X

राजस्थान ब्लैक फंगस मामले

जयपुर। राजस्थान में कोरोना वायरस (Rajasthan Corona Virus) का कहर तो जारी ही है साथ ही अब नई बीमारी ब्लैक फंगस (Black Fungus) ने प्रदेशवासियों के साथ साथ राज्य सरकार की टेंशन का बढ़ा दिया है। ब्लैक फंगस यहां बहुत तेजी से फैलता जा रहा है। राजस्थान के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर रघु शर्मा (Dr Raghu Sharma) ने कहा कि राज्य में ब्लैक फंगस के लगभग 700 मामले सामने आए हैं और राज्य सरकार ने इस बीमारी को महामारी घोषित करने के लिये अधिसूचित भी कर दिया है। उन्होंने बताया कि इस बीमारी के उपचार के लिये प्रोटोकाल तय किया है। इसके तहत कोविड के उपचार में स्टेरॉइड की जो मात्रा दी जा रही है उसको भी कम करने के लिये कहा है और जितनी आवश्यकता हो उतनी ही दी जाये।

उपचार के लिये सरकार ने जारी की शुल्क की सूच

उन्होंने बताया कि निजी चिकित्सालयों में इस बीमारी के उपचार के लिये सरकार ने शुल्क की सूची जारी कर दी है निजी चिकित्सालय उससे अधिक पैसा वसूल नहीं कर सकते। जयपुर के सवाई मान सिंह चिकित्सालय में अलग से एक विंग बनाई गई हैं। उन्होंने बताया कि सरकार ने ब्लैक फंगस बीमारी के उपचार के लिये राज्यभर में नौ सरकारी और 11 निजी अस्पतालों को अनुमति दी है। इन अस्पतालों में नाक, कान, गला (ईएनटी) और आखों के विशेषज्ञ हैं और उपचार के संसाधन उपलब्ध हैं। मंत्री ने बताया कि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की जो टीमें डोर टू डोर सर्वे कर रही हैं उन्हें भी कहा गया है कि अगर ब्लैक फंगस के लक्षण का कोई मामला नजर आये तो तत्काल उसे अस्पताल में रिपोर्ट करवायें अगर प्रारंभिक अवस्था में कोई व्यक्ति अस्पताल पहुंचता है तो जीवन को खतरा नहीं रहता है और बड़ी जटिलताएं भी नहीं आती हैं।

Next Story