Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

राजस्थान में आज से लगेगा 18 से 44 साल के लोगों को टीका, प्रदेश में इस आयु वाले लोगों की संख्या करोड़ों में

कोरोना वायरस प्रतिरक्षण टीकाकरण का नया चरण आज से शुरू हो गया है जिसमें 18 से 44 आयुवर्ग के लोगों का टीकाकरण होगा। राज्य के चिकित्सा व स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा ने कहा कि सीरम इंस्टीट्यूट ने शुक्रवार देर शाम 5.44 लाख टीके देने की सहमति दे दी।

राजस्थान में आज से लगेगा 18 से 44 साल के लोगों को टीका, प्रदेश में इस आयु वाले लोगों की संख्या करोड़ों में
X

18 से 44 साल के लोगों को लगेगा टीका

जयपुर। राजस्थान में प्रदेश सरकार कोरोना वायरस (Corona Virus) पर नियंत्रण करने की हर मुमकिन कोशिशों में लगी हुई है। राज्य में इस घातक बीमारी ने तबाही मचाई हुई है। इसी को देखते हुए प्रदेश में कोरोना वक्सीनेशन (Corona Vaccination) पर अधिक फोकस रखा जा रहा है। इसी क्रम में कोरोना वायरस प्रतिरक्षण टीकाकरण का नया चरण आज से शुरू हो गया है जिसमें 18 से 44 आयुवर्ग के लोगों का टीकाकरण होगा। राज्य के चिकित्सा व स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा (Dr Raghu Sharma) ने कहा कि सीरम इंस्टीट्यूट (Serum Institute) ने शुक्रवार देर शाम 5.44 लाख टीके देने की सहमति दे दी। शर्मा ने बताया कि कंपनी ने पहले राजस्थान सरकार (Rajasthan Government) को तीन लाख खुराक (Dose) देने की सहमति दी थी। उन्होंने कहा कि इसी के मद्देनजर शनिवार से राज्य 35 से 44 वर्ष आयु वर्ग के लोगों को टीका लगाने का काम शुरू किया जाना था।

उन्होंने बताया कि शुक्रवार देर शाम कंपनी ने 5.44 लाख टीके इसी माह और मिलने की जानकारी दी है। चिकित्सा मंत्री ने बताया कि राज्य के 18 से 44 वर्ष की आयु वर्ग के सभी लोगों का टीकाकरण किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार से पर्याप्त संख्या में टीके उपलब्ध कराने की मांग लगातार की जा रही है। गौरतलब है कि प्रदेश में 18 -44 वर्ष आयु वाले लोगों की संख्या 3. 25 करोड़ है। डॉ शर्मा ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमितों की तेजी से बढ़ती संख्या के कारण राज्य को एक मई से 15 हजार रेमडेसिविर इंजेक्शन प्रतिदिन चाहिए जबकि केन्द्र सरकार की ओर से जो आवंटन किया जा रहा है वह बेहद कम है।

67 हजार रेमडेसिविर इंजेक्शन का आवंटन

उन्होंने कहा कि अप्रैल माह में राजस्थान को 67 हजार रेमडेसिविर इंजेक्शन (Remedesiver Injection) का आवंटन किया गया था लेकिन प्रदेश को केवल 40 हजार इंजेक्शन ही उपलब्ध हो सके। उन्होंने कहा कि राज्य में अस्पतालों या कोविड केयर सेंटर में पर्याप्त संख्या में बिस्तर उपलब्ध हैं लेकिन आक्सीजन और रेमडेसिविर का आवंटन केन्द्र सरकार के हाथ में होने के कारण चुनौती का सामना करना पड़ रहा है। दरअसल, अन्य राज्यों के साथ-साथ राजस्थान में भी कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. वहीं, कई मरीजों की रोज मौत भी हो रही है।

Next Story