Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अनुराग ठाकुर ने लगाया आरोप- कृषि विधेयकों पर किसानों को बहका रही है पंजाब सरकार

केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने कांग्रेस के नेतृत्व वाली पंजाब सरकार पर नए कृषि कानूनों को लेकर किसानों को 'बहकाने' का आरोप लगाया और पूछा कि मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह क्यों किसानों की आय दोगुनी नहीं करते।

अनुराग ठाकुर ने लगाया आरोप- कृषि विधेयकों पर किसानों को बहका रही है पंजाब सरकार
X

अनुराग ठाकुर

चंडीगढ़। कृषि विधेयकों की आड़ में राजनीतिक सरगर्मियां तेज होती दिख रही हैं। एक तरफ तो किसान इन विधेयकों के खिलाफ प्रदर्शन पर अड़े हैं वहीं दूसरी तरफ इन विधेयकों को लेकर राजनीतिक पार्टियां एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप मढ़ रहे हैं। केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने कांग्रेस के नेतृत्व वाली पंजाब सरकार पर नए कृषि कानूनों को लेकर किसानों को 'बहकाने' का आरोप लगाया और पूछा कि मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह क्यों किसानों की आय दोगुनी नहीं करते।

कानूनों की वकालत करते हुए ठाकुर ने कहा कि कांग्रेस और कुछ अन्य राजनीतिक दल 2022 के पंजाब विधानसभा चुनावों को ध्यान में रखते हुए अपने 'निहित स्वार्थों' की वजह से कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के लिये प्रतिबद्ध है।

कांग्रेस पर किया प्रहार, किसानों को गुमराह किया जा रहा

केंद्रीय मंत्री ने कांग्रेस पर जमकर प्रहार किया। वह डिजिटल रूप से लुधियाना में कृषि वैज्ञानिकों के एक समूह को संबोधित करते हुए ठाकुर ने कहा कि पंजाब देश में एक मात्र राज्य है जहां सत्ताधारी दल (कांग्रेस) किसानों को बहकाने, भ्रम फैलाने और गुमराह करने की कोशिश कर रहा है।

वित्त राज्य मंत्री ने कहा कि किसानों को कानून के बारे में समझाने के बजाय, राज्य सरकार उन्हें उकसाने का काम कर रही है। उन्होंने कांग्रेस पर किसानों के बजाय आढ़तियों के हित में बात करने का आरोप लगाया। मंडी कर संग्रह का मुद्दा उठाते हुए भाजपा नेता ने कहा कि पंजाब सरकार ने दावा किया था कि उसे 3500 करोड़ रुपयों का नुकसान होगा।

मंडी के मुद्दे को लेकर मुख्यमंत्री पर राजनीति करने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि क्या मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह किसानों की आय दोगुनी नहीं करना चाहते? ठाकुर ने स्पष्ट किया कि नए कृषि कानूनों के तहत मंडियां बरकरार रहेंगी और किसानों को अधिसूचित मंडियों के बाहर अपनी फसलों को बेचने का विकल्प दिया गया है।

Next Story